Know India Programme : Interaction with Indian origin youth from seven countries


भारतीय मूल के विदेशी युवक/ युवतियों ने की डॉ हर्ष वर्धन से मुलाकात



Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan had an interaction session with 40 Indian origin young professionals of 18-30 years age from Guyana, Suriname, Trinidad& Tobago, Fiji, South Africa, Mauritius and Myanmar at his official residence, here, today. This interaction session was organised by the Ministry of External Affairs under its ‘Know India Programme.’



18 January 2019, New Delhi: Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan had an interaction session with 40 Indian origin young professionals of 18-30 years age from Guyana, Suriname, Trinidad& Tobago, Fiji, South Africa, Mauritius and Myanmar at his official residence, here, today. This interaction session was organised by the Ministry of External Affairs under its ‘Know India Programme.’

नई दिल्ली (18 जनवरी 2019): केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने शुक्रवार को अपने सरकारी आवास पर भारतीय विदेश मंत्रालय के Know India Programme के तहत भारत आये सूरीनाम, गुयाना, त्रिनिदाद और टोबैगो, फिजी, दक्षिण अफ्रीका, मॉरिशस और म्यांमार के भारतीय मूल की तीसरी और चौथी पीढ़ी के 40 Young Professionals से मुलाकात की।

It was conducted in a relaxed atmosphere and each of the participant, including the Union Minister introduced himself to youth most of whom were third or fourth generation descendants of indentured Indian labourers brought to Fiji, Mauritius, South Africa, Trinidad & Tobago, Guyana, Suriname to work on sugarcane plantations by European colonisers, about India’s past and the present. On this occasion, the Union Minister talked about India’s growth story. In this regard, he took up economic progress that has been achieved in the country in the past over four years. He said India is today one of the fastest growing economies of the world and in science and technology, it is positioned among the top 10 countries of the globe. He also put in perspective changes that have been ushered in India under the leadership of Shri Narendra Modi Ji. Launch of welfare schemes like Jan Dhan, Aayushman Bharat and others were explained.

भारतीय मूल की तीसरी और चौथी पीढ़ी के युवक और युवतियों से मुलाकात के दौरान डॉ हर्ष वर्धन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में हो रहे विकास के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि आज भारत विज्ञान और प्रौद्योगिकी समेत सभी क्षेत्रों में तेजी से आगे बढ़ रहा है और विश्व के 10 देशों में शुमार हो गया है। उन्होंने इन Young Professionals को जन-धन, आयुष्मान भारत और दूसरी योजनाओं के बारे में जानकारी दी। साथ ही उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में भारत की भूमिका को आज विश्व में प्रशंसा हो रही है। क्लीन इनर्जी के क्षेत्र में भारत ने काफी ने अभूतपूर्व सफलता हासिल की है।

He said 50 crore people are going to be benefitted from Aayushman Bharat, a healthcare scheme which envisages Rs 5 lakh worth of cashless treatment for the poor. On this occasion, he also informed young Indian origin professionals about Jan Dhan scheme, under which low income groups or weaker sections have got their bank accounts opened in which pension, MNREGA wages, subsidy money or money from any other centrally sponsored schemes are directly credited. He also talked about Green Good Deeds.

केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के हकदार देश के 50 करोड़ लोग हैं। इसके तहत 5 लाख तक मुफ्त सभी बीमारियों के इलाज का प्रावधान है। जन धन योजना के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि कैसे इससे देश के करोड़ों लोगों को फायदा हुआ है। इस योजना से आज सब्सिडी के पैसे सीधे लाभुकों के खाते में चले जाते हैं।

The Union Minister said green good deeds has become a movement in India and the UN and BRICS nations have acknowledged it. He said he wished other countries should also adopt it as it has a direct bearing on environment.

इस मौके पर उन्होंने भारतीय मूल के Young Professionals के साथ अपने ग्रीन गुड डीड्स अभियान की जानकारी को साझा किया। उन्होंने कहा कि 700 ऐसे ग्रीन गुड डीड्स हैं, जिसे अपने दैनिक जीवन में अनुसरण कर पर्यावरण को स्वच्छ बनाया जा सकता है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ग्रीन गु़ड डीड्स अभियान को आज संयुक्त राष्ट्र और ब्रिक्स के देश भी अनुसरण कर रहे हैं।

The interaction session with members of PIOs went well and was enjoyed by all participants. It was conducted by the MEA under its ‘Know India Programme’, an initiative which was launched in 2004.

इस मौके पर भारतीय मूल के Young Professionals ने केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन की Hospitality की काफी प्रशंसा और उन्हें प्रेरणा का स्रोत बताया। केंद्रीय मंत्री कई Young Professionals को अपनी किताब 'कहानी दो बूंद की' की प्रतियां भी गिफ्ट की।