यमुना की सफाई को लेकर राजनीति ठीक नहीं : डॉ हर्ष वर्धन


यमुना नदी को प्रदूषणमुक्त करके निर्मल बनाने के लिए गुरूवार, 27 दिसम्बर को दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित नमामि गंगे परियोजना के तहत 1656 करोड़ रुपए की 9 परियोजनाओं के शुभारंभ किया गया।



नई दिल्ली ( 27 दिसम्बर) : यमुना नदी को प्रदूषणमुक्त करके निर्मल बनाने के लिए गुरूवार, 27 दिसम्बर को दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित नमामि गंगे परियोजना के तहत 1656 करोड़ रुपए की 9 परियोजनाओं के शुभारंभ किया गया।

इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि दिल्ली में वायु और जल प्रदूषण बड़ी समस्या है। इससे विदेशों में राजधानी की छवि खराब हो रही है। इसलिए केंद्र, दिल्ली सरकार और स्थानीय निकायों को मिलकर काम करना होगा। यमुना एक्शन प्लान-3 की इस योजना के तहत दिल्ली के कोंडली, रिठाला और ओखला ड्रेनेज जोन में सीवेज लाइन व एसटीपी का जीर्णोद्धार होगा।
शुभारंभ कार्यक्रम के मौके पर केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार के विकास के कार्यों की कभी तारीफ नहीं करती। यमुना की सफाई की इस परियोजना पर दिल्ली व केंद्र सरकार को मिलकर काम करना होगा। उन्होंने दिल्ली सरकार को आश्वासन दिया कि केंद्र सरकार या भाजपा की तरफ से कोई दिक्कत नहीं होगी।

उन्होंने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि यमुना को साफ करने को लेकर कोई राजनीति नहीं होगी। 1365 किमी लंबी यमुना नदी में सिर्फ 22 किमी की दिल्ली की यमुना 80 फीसदी प्रदूषण फैलाती है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि विज्ञान व प्रौद्योगिकी और पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, नमामि गंगे को लेकर अपने स्तर पर कई तरह के प्रयास कर रहे हैं।

इस अवसर पर केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, केंद्रीय जल संसाधन राज्य मंत्री सत्यपाल सिंह , डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया समेत कई गणमान्य लोग मौजूद थे।