Through social media create awareness among people about central government’s works: Dr Harsh Vardhan


सोशल मीडिया के जरिए केंद्र सरकार के कामों को जन-जन तक पहुंचाएं : डॉ हर्ष वर्धन



While inaugurating the third stock taking conference on tiger conservation in New Delhi, Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan today said that a robust system is in place on the tiger conservation front in India.



New Delhi, 28 January 2019: While inaugurating the third stock taking conference on tiger conservation in New Delhi, Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan today said that a robust system is in place on the tiger conservation front in India.

नई दिल्ली ( 29 जनवरी) : नई दिल्ली में बाघ संरक्षण के संबंध में तीसरे स्टॉक टेकिंग सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए केंद्रीय पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्री और राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के अध्यक्ष डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि बाघ संरक्षण एक कर्तव्य है जिसे अच्छे ढंग से निभाना चाहिए ताकि हम रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में 2010 में बाघ रेंज के देशों द्वारा अपनाए गए लक्ष्यों को बेहतर तरीके से प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि हमारी सोच का नया भारत न केवल मानव के लिए है बल्कि इसमें वन्यजीव सहित सभी पहलू शामिल हैं।

He also said the process is on for signing memorandum of agreement (MoU) with Nepal and Myanmar and that there is a pact with Bangladesh and China on the tiger conservation issue. During the St. Petersburg Declaration in 2010, the tiger range countries had resolved to double tiger numbers across their range by 2022.

Speaking on the occasion, he said social media can popularise green good deeds which could ultimately prove effective in protecting environment from pollutions. He said the UN, BRICS and several other multilateral groups and nations are encouraging green good deeds.

उन्होंने कहा कि बाघ संरक्षण की दिशा में नेपाल और म्यंमार के साथ एमओयू साइन करने के लिए बातचीत चल रही है जबकि चीन और बांगलादेश से पहले से ही करार है। 2010 के सेंट पीटर्सबर्ग घोषणा के दौरान बाघ बहुल देशों ने वर्ष 2022 तक अपने अपने क्षेत्रों में बाघों की संख्या दुगुना करने का संकल्प लिया था।

In view of India’s contributions in the field of environment, the Union Minister said, the UN has honoured Prime Minister Shri Narendra Modi Ji with “Champions of the Earth Award.” He said UN Secretary-General Antonio Guterres had himself flew to Delhi to confer this award on the Prime Minister.

In 2010, tigers’ population in India stood at 1411 which nearly doubled to 2226 in 2014. And this has been possible because of steps taken towards fulfillment of Key Performance Indicators (KIPs), predominant among them being legislation to ensure protection of tiger habitat and enhancement of penalties, besides providing a statutory basis for involate space. The fourth cycle of the All India Tiger Estimation, 2018 is currently under way.

उन्होंने कहा कि 2010 में भारत में बाघों की संख्या 1411 थी जो 2014 में बढ़कर 2226 हो गई है। यह उपलब्धि Key Performance Indicators के संबंध में किए गए प्रयासों के कारण संभव हो सकी है। अखिल भारतीय बाघ आकलन (2018) का चौथा चक्र वर्तमान में चल रहा है।

In the course of the third stock taking conference, wide ranging discussions were held on status of the global tiger recovery programme (GTRP) by all tiger range countries, especially India. The Union Minister said: “We should not just confine ourselves to routine stock taking exercise, we should try to have quality sharing of experience from countries which are in the field of tiger conservation.”

उन्होंने कहा कि तीसरे स्टॉक टेकिंग सम्मेलन के दौरान सभी बाघ बहुल देशों द्वारा वन्यजीव निषिध व्यापार को रोकने के लिए संबंध में विचार विमर्श के अतिरिक्त, वैश्विक बाघ पुन:स्थापित कार्यक्रम की स्थिति पर व्यापक रूप से कार्रवाई करने की जरूरत है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बाघ संरक्षण की दिशा में सभी देशों के अनुभवों को साझा किया जाना चाहिए।

The conference was hosted by the National Tiger Conservation Authority by the Ministry of Environment, Forest and Climate Change in close collaboration with the Global Tiger Forum which is an international, intergovernmental organization for conserving tigers in the world.

इस सम्मेलन की मेजबानी राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा ग्लोबल टाइगर फोरम के सहयोग से की जा रही है। ग्लोबल टाइगर फोरम विश्व में बाघों के संरक्षण के लिए अंतरराष्ट्रीय सरकारी संगठन है।