24X7 science tv channel is our ultimate goal


24X7 साइंस टीवी चैनल है हमारा अंतिम लक्ष्य



Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Environment, Forest and Climate Change Dr Harsh Vardhan today launched DD Science, a daily-based hourly programme on Doordarshan and India Science, an internet-based TV channel. Speaking on this occasion, the Union Minister said these two tv channels will offer quality contents on science and technology and will help in realising Prime Minister Shri Narendra Modi Ji’s dream of New India by 2022.



15 January 2019, New Delhi: Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Environment, Forest and Climate Change Dr Harsh Vardhan today launched DD Science, a daily-based hourly programme on Doordarshan and India Science, an internet-based TV channel. Speaking on this occasion, the Union Minister said these two tv channels will offer quality contents on science and technology and will help in realising Prime Minister Shri Narendra Modi Ji’s dream of New India by 2022.

नई दिल्ली ( 15 जनवरी 2019): विज्ञान को घर-घर तक पुहंचाने के लिए आज केंद्रीय विज्ञान एंव प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने 'डीडी साइंस' और 'इंडिया साइंस' नाम के दो चैनलों का उद्घाटन किया। इस मौके पर बोलते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि ये दोनों चैनल साइंस और टेक्नोलॉजी संबंधित Quality Contents उपलब्ध कराएंगे जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2022 में न्यू इंडिया बनाने में मददगार होंगे।

The Union Minister said attempts are made across the world to find solutions to every unresolved issue. Talking about internet-based India Science channel, he said the Prime Minister is the source of inspiration behind the launch of such channel.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि विज्ञान के जरिए देश और दुनिया की समस्याओं का समाधान निकाला जा सकता है। उन्होंने कहा कि इंटरनेट आधारित चैनल 'इंडिया साइंस' (www.indiascience.in) लांच करने के पीछे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की प्रेरणा है।

The Union Minister also referred to the on-going digitization move in the country. In this regard, he informed the gathering about the speed with which optical fibre has been laid across the country in the last four-and-half year. The Union Minister said prior to the BJP-led NDA’s government’s arrival on May 26, 2014, the total length of optical fibre was only 356 km, now it has gone over two lakh km in the country.

इसके अलावा केंद्रीय मंत्री ने इस मौके पर देशभर में चल रहे डिजिटलाइजेशन कार्यक्रमों की भी चर्चा की। उन्होंने बताया कि पिछले साढ़े चार सालों में देशभर में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में तेजी आई है। 2014 में एनडीए सरकार बनने के पहले देश में 356 किमी ऑप्टिकल फाइबर बिछाई गई जो अब बढ़कर 2 लाख किमी हो गई है।

With regard to DD Science, he said though initially it will be hourly programme on Doordarshan, but it will be gradually increased to 12 hours mode. “Of course, our plan is big. We want 24X7 TV channel on science and technology which could be distinct from others in terms of both viewership and TRPs. This is our ultimate goal,” Union Minister said, adding that hundreds of people and scientists are busy to work out a plan in this regard. He said content of these programmes on science and technology should be such that viewers would get satisfaction out of it.

डीडी साइंस चैनल के बारे में बताते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आरंभ में दूरदर्शन के राष्ट्रीय चैनल पर यह एक घंटे के स्लॉट के रुप में शाम सोमवार से शनिवार शाम 5 बजे से शाम 6 बजे प्रसारित किया जाएगा। हमलोग की बड़ी योजना है और आगे चलकर इसे 24 घंटे की साइंस चैनल के रुप में डेवलप करने की योजना है। इस योजना पर सैकड़ों लोग और वैज्ञानिक काम कर रहे हैं। इन चैनलों पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी के ऐसे कार्यक्रम होंगे जिसे लोग पंसद करेंगे।

On this occasion, he also said journalists could play their role in spreading the reach of science among common people in the country. While speaking so, the Union Minister paid his homage to Shri Rajendra Prabhu Ji, a senior journalist and avid science lover whose expertise was often utilized by the Ministry of Science and Technology in imparting training to young journalists on science journalism.

उन्होंने कहा कि देश के आमजनों के बीच विज्ञान के प्रचार और प्रसार में पत्रकारों का अहम योगदान है। दोनों चैनलों में विज्ञान पर आधारित वृतचित्र, स्टूडियो आधारित चर्चाएं और वैज्ञानिक संस्थानों के वर्चुअल, वॉकथ्रू, साक्षात्कर और लघु फिल्में होंगी और वे पूरी तरह से नि:शुल्क होंगी। इस अवसर पर उन्होंने वरिष्ठतम पत्रकार राजेंद्र प्रभु के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। उन्होंने विज्ञान पत्रकारिता में उनका अहम योगदान रहा है।