Germany is India’s valuable partner in fight against climate change: Dr Harsh Vardhan


जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में जर्मनी भारत का मूल्यवान भागीदार : डॉ हर्ष वर्धन



Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change, Dr Harsh Vardhan held a bilateral meeting with Germany’s hon’ble Minister for Environment, Nature Conservation and Nuclear Safety, Ms Svenja Schulze here today. The meeting was held in a cordial and friendly atmosphere.



New Delhi, 13 February 2019: Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change, Dr Harsh Vardhan held a bilateral meeting with Germany’s hon’ble Minister for Environment, Nature Conservation and Nuclear Safety, Ms Svenja Schulze here today. The meeting was held in a cordial and friendly atmosphere.

नई दिल्ली, 13 फरवरी 2019: केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान, वन, पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने जर्मनी के पर्यावरण, प्रकृति संरक्षण और परमाणु सुरक्षा मंत्री Svenja Schulze के साथ द्विपक्षीय बैठक की। बैठक सौहार्दपूर्ण और मैत्रीपूर्ण वातावरण में आयोजित की गई थी।

The German Federal Minister had paid visit to India for the 3rd Indo-German Environment Forum. While welcoming her for the Forum, the Union Minister said the German Ministry of Environment has become a priority partner for our Ministry in the areas of waste management, circular economy, climate change as well as biodiversity.

जर्मन संघीय मंत्री ने तीसरे इंडो-जर्मन पर्यावरण फोरम के लिए भारत के दौरे पर हैं। फोरम के लिए उनका स्वागत करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जर्मन पर्यावरण मंत्रालय कचरा प्रबंधन, Circular Economy, जलवायु परिवर्तन के साथ-साथ जैव विविधता के क्षेत्रों में हमारे मंत्रालय के लिए एक प्राथमिकता भागीदार बन गया है।

Sating that Indo-German bilateral relations are founded on common democratic principles that are marked by trust and mutual respect, He said Germany has been a valuable partner in India’s efforts to deal with climate change.

उन्होंने कहा कि भारत-जर्मन द्विपक्षीय संबंधों की स्थापना आम लोकतांत्रिक सिद्धांतों पर की गई है जो विश्वास और पारस्परिक सम्मान से चिह्नित हैं। उन्होंने कहा कि जर्मनी जलवायु परिवर्तन से निपटने के भारत के प्रयासों में एक मूल्यवान भागीदार रहा है।

The Union Minister also said that India has proactively pursued mitigation and adaptation activities and achieved a reduction in emission intensity of GDP by 21% over the 2005-2014 period. The share of non-fossil sources in installed capacity of electricity generation has increased from 30.5% in March 2015 to 35.5% in June 2018.

केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि भारत ने लगातार Mitigation and Adaptation गतिविधियों को आगे बढ़ाया है और 2005-2014 की अवधि में सकल घरेलू उत्पाद की उत्सर्जन तीव्रता में 21% की कमी हासिल की है। बिजली उत्पादन की स्थापित क्षमता में गैर-जीवाश्म स्रोतों की हिस्सेदारी मार्च 2015 में 30.5% से बढ़कर जून 2018 में 35.5% हो गई है।

Dr Harsh Vardhan said India is mainstreaming effective, pragmatic solutions to embrace a complete sustainable lifestyle by aligning with the 5 Ps--People, Planet, Prosperity, Peace and Partnership. He also said that in 2018, India held World Environment Day celebrations with a global theme ‘Beat Plastic Pollution’.

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि भारत वैश्विक प्रयास के साथ 5Ps यानि People, Planet, Prosperity, Peace and Partnership के साथ गठबंधन करके एक संपूर्ण टिकाऊ जीवन शैली को अपनाने के लिए प्रभावी, व्यावहारिक समाधानों की मुख्यधारा बना रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि 2018 में भारत ने एक वैश्विक विषय 'Beat Plastic Pollution’ के साथ विश्व पर्यावरण दिवस समारोह आयोजित किया।

Maintaining that Germany is an important partner for India across sectors, the Union Minister said by working jointly both India and Germany can achieve tremendous success in addressing global and local challenges of climate change and sustainable development.

सभी क्षेत्रों में भारत के लिए जर्मनी एक महत्वपूर्ण साझेदार है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत और जर्मनी दोनों संयुक्त रूप से काम करके जलवायु परिवर्तन और सतत विकास की वैश्विक और स्थानीय चुनौतियों का सामना करने में काफी सफलता प्राप्त कर सकते हैं।