उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी व पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने इंजीनियरिंग, जैव प्रौद्योगिकी, कृषि, फार्मेसी, सामग्री विज्ञान व अन्य तकनीकी में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को आज Gandhian Young Technological Innovation Awards 2019 से सम्मानित किया।




विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि मुझे जानकर खुशी है कि सरकार के बॉयोटेक्नोलॉजी विभाग के तहत स्वायत्तशासी संस्था Biotechnology Industry Research Assistance Council (BIRAC) ने देश में इनोवेशन को प्रोत्साहित करने के लिए महत्वपूर्ण पहल की है। उन्होंने कहा कि मैं युवा नव अनुसंधानकर्ताओं का आह्वान करता हूं कि आप बदलाव के लिए जनआंदोलन का हिस्सा बनें और स्वास्थ्य, पोषण, शिक्षा, कृषि, जल संसाधन, वित्तीय समावेश, कौशल विकास जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर अपने नए विचार दें।



उन्होंने कहा कि मेरा पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय इस तरह की प्राकृतिक आपदाओं का समय से काफी पहले अनुमान लगाने में कामयाब हुआ है, जिससे जान-माल के नुकसान को कम करने में सफलता मिली है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि आपके कुछ अनुसंधान क्रांतिकारी होंगे जो आमूलचूल परिवर्तन करेंगे, कुछ धीरे-धीरे बदलाव लाएंगे, लेकिन ज़रूरी ये है कि आपके अनुसंधान असली समस्या का समाधान कर सकें। उन्होंने कहा कि कृषि हमारी ग्रामीण अर्थव्यवस्था का आधार है और ज़रूरी है कि हम अपनी कृषि की पद्धति को समय के साथ बदलें। घटते प्राकृतिक संसाधनों और वर्षा के बदलते मौसम को देखते हुए कृषि प्रणाली में नए बदलाव करें।

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने सभी युवा वैज्ञानिकों को बधाई देते हुए कहा कि आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि आज भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी की जन्म जयंती है। उन्होने कहा कि डॉ मुखर्जी नेहरू जी की कैबिनेट में सबसे युवा मंत्री थे। मंत्री रहते हुए उन्होंने देश में कई उत्कृष्ट कार्य किए जो आज भी याद किए जाते हैं।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि मुझे पिछले पांच वर्षों में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री रहते हुए आप जैसे कई वैज्ञानिकों और खास तौर से युवा वैज्ञानिकों से मिलने का अवसर प्राप्त हुआ। भारत के वैज्ञानिकों ने अपनी प्रतिभा का लोहा दुनिया भर मनवाया है। उन्होंने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय युवाओं को इनोवेशन के लिए उचित वातावरण प्रदान करने के लिए प्रतिबद्व है और जरूरतों पर विशेष ध्यान देने के साथ अनुसंधान के वित्तपोषण में सुधार कर रहा है।

केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र को दिए अपने हाल के संबोधन में जल संरक्षण और संवर्द्धन के संबंध में व्यापक जागरूकता पैदा करने का आह्वान किया है। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे और नई तकनीक व नवाचारों के बीच के संबंधों को मजबूत और संस्थागत बनाना होगा। हमारे प्रधानमंत्री के नेतृत्व में मेक इन इंडिया और स्टार्टअप इंडिया से युवाओं को नई शक्ति मिली है।