11 जुलाई, 2019: केंद्रीय परिवार एवं कल्याण मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला 'आई सी पी डी @25 लीवरेजिंग पार्टनरशिप्स' में भाग लिया। कार्यक्रम में परिवार एवं कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री श्री अश्विनी चौबे और अन्य लोग भी मौजूद रहे।



कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने 25 वर्ष पहले Cairo में परिवार कल्याण पर हुई बैठक की बातों को गंभीरता से लेते हुए आज उसपर अमल करने की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने कहा कि मैं विभाग के लोगों से कहना चाहता हूं कि 25 वर्ष पहले Cairo बैठक की रिपोर्ट आज भी प्रासंगिक हैं और उस पर पुन: विचार कर काम करने की जरूरत है। कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि देश में परिवार नियोजन की दिशा में पिछले25 वर्षों में काफी काम हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार भी स्वास्थ्य को लेकर गंभीर है। केन्द्र सरकार ने इस साल स्वास्थ्य बजट में 19 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है जबकि सरकार की महत्वाकांक्षी योजना आयुष्मान भारत के बजट को भी 154 फीसदी बढ़ाया गया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जब देश आजाद हुआ था तो देश की जनसंख्या 30 करोड़ थी आज 2019 में हम 135 करोड़ हो गए हैं और आने वाले समय में जनसंख्या के इस दबाव को हमने कुशलता से नियंत्रित नहीं किया तो हमारी आबादी चीन से भी ज्यादा हो जाएगी। देश में हर व्यक्ति, परिवार, सामाजिक संस्थाएं, एनजीओ और सरकार के सभी विभाग मिलकर ये संकल्प करें कि हमें जनसंख्या के विस्फोट से मानवता को बचाना है। मानव कल्याण व भारत की आर्थिक समृद्धी के लिए हमें अपने परिवारों को सुनियोजित करना है।

कार्यशाला में उन्होंने कहा कि 2014 व 2019 में देश पर भगवान की कृपा रही कि हमें नरेन्द्र मोदी जी प्रधानमंत्री के रूप में मिले। मैं आश्वस्त हूं कि 2022 तक वो देश को न्यू इंडिया बनाने में सफल होंगे, जहां नागरिकों को सभी मूलभूत सुविधाएं मिलेंगी। देश में हर व्यक्ति, हर परिवार के लिए एक घर और उसमें सभी तरह की सुख सुविधाओं के साथ बच्चों के लिए स्वास्थ्य, शिक्षा व पोषण की पर्याप्त व बेहतर व्यवस्था हो। हर देशवासी के चेहरे पर मुस्कान हो।