नई दिल्ली, 10-05-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन कोविड19 संकट के इस दौर में हर रविवार मैं एक कोविड अस्पताल का दौरा करते हैं। इसी क्रम में आज उन्होंने दिल्ली के मंडोली कोविड केयर सेंटर का दौरा कर वहां उपलब्ध सुविधाओं व तैयारियों का जायजा लिया।



अपने दौरे के क्रम में उन्होंने कोविड केयर सेंटर में सेवारत कोरोना वॉरियर्स से बातचीत कर उनका उत्साहवर्धन किया। स्वास्थ्य मंत्री ने डॉक्टरों से इस सेंटर में कोविड19 का इलाज करा रहे मरीज़ों के बारे में भी जानकारी प्राप्त करी और जरूरी निर्देश दिए।

दौरे के समय डॉ हर्ष वर्धन ने मीडिया को बताया कि कोविड19 के मरीज़ों के इलाज के लिए अस्पतालों की 3 प्रकार की व्यवस्था की गई है। इनमें कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए डेडीकेटिड कोविड अस्पताल, मध्यम रूप से बीमार मरीजों के लिए कोविड हेल्थ सेंटर्स और हल्की- फुल्की बीमारी के लिए कोविड केयर सेंटर बनाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि देश में कोविड19 के मरीज़ों के इलाज के लिए 855 डेडीकेटिड हॉस्पिटल्स में 1,65,000 Beds की व्यवस्था है। जबकि 1984 स्वास्थ्य रक्षा सुविधाओं में 1,31,000 Beds की व्यवस्था की गई है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि देश में कोविड19 के खिलाफ लड़ाई में हम सफलता के साथ आगे बढ़ रहे हैं। पिछले 3 दिन में कोरोना से पीड़ित मरीजों की संख्या 12 दिन में दोगुनी हो रही है। जबकि रिकवरी की दर 30% से ऊपर है। कुल 60 हजार मरीज़ों में से 20 हजार ठीक हो गए हैं और मृत्यु दर केवल 3.3% है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्यों को कोविड19 से लड़ने में किस और चीज की आवश्यकता है, यह जानने के लिए 10 प्रांतों में केन्द्रीय दल भेजे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को 72 लाख N 95 मास्क और 36 लाख पीपीई किट्स बांट टुके हैं। देश में अब 472 लैब्स हैं। इनमें निजी क्षेत्र की लैब भी शामिल हैं।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि कोविड19 के मरीज़ों की सेवा में अडिग खड़े कोरोनावारियर्स के साहस, योग्यता और क्षमता को मैं हृदय की गहराइयों से प्रणाम करता हूं। इनके दृढ़निश्चय को देखकर मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि हम निश्चित रूप से इस संकट से उबरेंगे।

कोरोना से बचाव के तरीके बताते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने पत्रकारों से कहा कि हम सोशल डिस्टेसिंग अपनाएं और छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखें। कोई भी काम करने से पहले और बाद में साबुन से हाथ जरूर धोएं, हाथों को बार -बार मुंह से न छुएं, अपनी श्वसन स्वच्छता का ध्यान रखें और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं।