21 नवंबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज मिशन इन्द्रधनुष 2.0 के लिए राज्यों की तैयारियों की समीक्षा की। आज आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान उत्तर प्रदेश, राजस्थान, असम, हिमाचल प्रदेश और ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री व अन्य अधिकारी मौजूद थे। देश में टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के लिए डॉ हर्ष वर्धन ने अभियान की तैयारियों को लेकर जानकारी ली और दिशा निर्देश दिए। इस अभियान के तहत दो साल तक के उन बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा जो टीके नहीं लगवा सकते हैं । इस दौरान गर्भवती महिलाओं को भी टीके लगाए जाएंगे।



आईएमआई 2.0 के तहत बच्चों और गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण के महत्व पर जोर देते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि इसको पूरा करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा प्राथमिकता तय की गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में, आईएमआई 2.0 का लक्ष्य 27 राज्यों में पूर्ण टीकाकरण कवरेज के लक्ष्यों को प्राप्त करना है। उन्होंने कहा कि हम सभी को यह सुनिश्चित करना होगा कि कि टीके के अभाव में किसी बच्चे की मृत्यु न हो। विशेष रूप से तब, जब हमारे पास इसके लिए यूनिवर्सल टीकाकरण कार्यक्रम है जिसके तहत सभी बच्चों का नि:शुल्क टीकाकरण कराया जाता है। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि मिशन इंद्रधनुश 2.0 के लॉन्च के साथ, भारत में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में होने वाली मौतों में कमी आएगी और हमें 2030 तक बच्चों की मृत्यु को रोकने के लक्ष्य को हासिल करने में सफलता मिलेगी।

उन्होंने कहा कि 2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद मिशन इंद्रधनुश योजना के तहत टीकाकरण में 18 से 30 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई। भारत सरकार के संकल्प को दोहराते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि मिशन इंद्रधनुश 2.0 के तहत हमें यह सुनिश्चित करना है कि इस बार देश में कोई भी बच्चा टीकाकरण से न छूटे। उन्होंने कहा कि भारत जब पोलियो और चेचक जैसी बीमारियों पर विजय पा सकता है तो हम देश के शत-प्रतिशत बच्चों तक टीकाकरण क्यों नहीं पहुंचा सकते। राज्य प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हम पोलियो अभियान के अनुभव से सबक ले सकते हैं, जहां राज्यों के साथ विभिन्न संस्थाओं और हितधारकों ने निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए हाथ मिलाया।

अक्टूबर 2017 में भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने टीकाकरण में तेजी लाने के लिए एक महत्वाकांक्षी योजना का शुभारंभ किया था। इसका उद्देश्य लगातार निचले स्तरों वाले जिलों और शहरी क्षेत्रों की ओर पूर्ण टीकाकरण कवरेज प्राप्त करना था।