नई दिल्ली, 07-05-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने सभी राज्यों के साथ कोविड19 से निपटने को लेकर जारी समीक्षा के क्रम में आज उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री श्री जय प्रताप सिंह, ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री श्री नाबा किशोर दास जी व पश्चिम बंगाल के अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक करी।। इस अवसर पर उनके साथ स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे जी भी मौजूद थे।



उन्होंने कहा कि एक बड़ा प्रांत होने के बावजूद उत्तर प्रदेश ने कोविड के प्रबंधन का बहुत अच्छा काम किया है लेकिन आगरा, कानपुर, मेरठ, सहारनपुर, गौतम बुद्ध नगर को लेकर चिंता है क्यूंकि आगरा में कोविड के 655 केस हैं, कानपुर में 292, सहारनपुर में 205, मेरठ में 175, गौतम बुद्ध नगर में 193, लखनऊ में 231 केस हैं। जबकि प्रभावित जिलों में चित्रकूट अभी हाल में शामिल हुआ है।

राज्य के कुल 75 जिलों में से 8 जिले कोविड से बेअसर हैं और शेष प्रभावित जिलों में से 22 जिलों में 5 से कम और 11 जिलों में कोरोना के 5-10 मामले हैं।

हर जिले में अत्यंत गंभीर श्वसन संक्रमण (SARI) और इन्फ्लुएंजा जैसी बीमारी (ILI )के कम से कम 250 केसों का सर्वीलेंस करके उनका ओपीडी या अस्पताल में इलाज कराना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तरह के उपाय प्रारंभिक अवस्था में किसी भी संक्रमण का पता लगाने में सहायक होंगे।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग सहित सभी अधिकारियों और विशेष रूप से मुख्यमंत्री जी का कड़े फैसले लेने के लिए धन्यवाद देना चाहिए।

डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि देश में कोविड के कुल 52,952 में से 15,267 लोग ठीक होकर अपने-अपने घरों को चले गए हैं जबकि दुर्भाग्य से 1,783 लोगों की मृत्यु हो गई है। शेष लोग ठीक होने की प्रक्रिया में हैं। देश में कोरोना से पीड़ित मरीजों की मृत्यु दर 3.3 और इस महामारी से ठीक होने वालों की दर बढ़कर 28.8 प्रतिशत तक पहुंच गई है।

देश के 180 जिलों में 7 दिनों से कोविड19 का एक भी मरीज नहीं आया है।180 जिलों में 7-13 दिनों के बीच,164 जिलों में 14-20 दिनों के बीच और 136 जिलों में 21-28 दिनों के बीच कोविड19 का कोई मामला सामने नहीं आया है।

भारत में कोविड19 के मरीजों के दोगुने होने की दर 7 दिन में 10.7 तक पहुंच गई है। देश में 130 जिलों में हॉट स्पॉट हैं। 284 जिलों में कोई हॉट स्पॉट नहीं है लेकिन इन जिलों में छिटपुट केस हैं, जबकि 319 जिलों में कोविड19 का कोई असर नहीं है।

देशभर में 327 सरकारी लैब हैं और हमारी टेस्ट करने की क्षमता 95,000 प्रतिदिन तक पहुंच गई है। अभी तक देशभर में 13 लाख,57 हजार,442 टेस्ट हो चुके हैं। वेंटिलेटर पर 1.1प्रतिशत,3.3 प्रतिशत ऑक्सीजन पर और 4.8प्रतिशत मरीज आईसी यू में हैं।

तीनों राज्यों के साथ बैठक में डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि राज्यों व संघ शासित क्षेत्रों को केंद्र सरकार की तरफ से अभी तक 62.77 लाख एन 95 मास्क और 29.06 लाख पीपीई का वितरण किया जा चुका है।

उन्होंने कहा कि भारत कोविड19 से पूरे दमखम के साथ लड़ रहा है इसलिए किसी को भी घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

डॉ हर्ष वर्धन ने इस बात पर चिंता व्यक्त करी कोविड19 को लेकर केंद्र के दिशा निर्देश ज़िला स्तर पर पर नहीं पहुंच पा रहे हैं। उन्होंने सभी ज़िलाधिकारियों से प्रवासी मज़दूरों को लेकर केंद्र के दिशानिर्देशों का पालन कड़ाई से कराने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ़ जारी लड़ाई में केंद्र सरकार सभी राज्यों को हर संभव मदद देने को तैयार है। उन्होंने कहा कि इस बैठक का उद्देश्य राज्यों की परेशानियों व उनकी जरूरतों को समझना है, ताकि उनके समाधान निकाले जा सकें।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि राज्यों को प्रवासी मज़दूरों व विदेश से आने वाले भारतीयों को लेकर जारी केंद्र के दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करने का आग्रह किया गया है। कोविड19 पर नियंत्रण के लिए पश्चिम बंगाल को भी कई निर्देश दिए गए हैं।

बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने मीडिया को बताया कि यूपी में 66 और ओडिशा व पश्चिम बंगाल में 16-16 ज़िले कोविड 19 से प्रभावित हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में जिस मज़बूती के साथ सभी राज्य सरकारें कोविड19 के खिलाफ़ लड़ाई लड़ रही हैं, हम इस पर जल्द जीत प्राप्त करेंगे।