नई दिल्ली, 6 मार्च 2020: केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज कोरोना वायरस को लेकर नई दिल्ली में निर्माण भवन स्थित केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ वीडियो कॉंन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करी। उनके साथ स्वास्थ्य सचिव श्रीमती प्रीति सुदान जी के अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। उन्होंने राज्यों और संघशासित प्रदेशों की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि सभी को मिलकर इस चुनौती पर विजय प्राप्त करनी है।



डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि आज जब विश्व में कोरोना को लेकर बेहद संकट की घड़ी उत्पन्न हो गई है हम सभी इससे बचाव, रोकथाम और इस वायरस को फैलने से रोकने के तौर-तरीकों की मुस्तैदी को लेकर ये बैठक कर रहे हैं। इसके अलावा हमारे अधिकारी इस संवेदनशील मुद्दे पर हर दूसरे दिन इसी तरह बैठकें करते आ रहे हैं। उन्होंने राज्यों के प्रतिनिधियों से कहा कि आप लोग भारत सरकार के दिशा-निर्देशों का गंभीरता से पालन करने का प्रयास कर रहे हैं , यही देश और समाज के प्रति आपकी कर्तव्यपरायणता है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी स्वयं इस मामले की पूरी गंभीरता के साथ मॉनिटरिंग कर रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ विभिन्न मंत्रालय इस मिशन में पूरा सहयोग कर रहे हैं। इनमें विदेश, रक्षा, गृह, नागर विमानन, जहाजरानी, फार्मास्युटिकल मंत्रालय के अलावा और भी सभी संबंधित मंत्रालय जिनकी आवश्यकता पड़ रही है, वे सभी पूरा सहयोग कर रहे हैं।

उन्होंने राज्यों के स्वास्थ्यमंत्रियों से कहा कि वे सरकार के सभी विभागों को भी किसी न किसी तरीके से इस काम में शामिल करें, चाहे कोई प्रत्यक्ष रूप से इससे जुड़ा न भी हो, तब भी सार्वजनिक जीवन में होने की वजह से हमारी ये जिम्मेदारी बन जाती है कि समाज के लोगों तक सही और सटीक जानकारी समय से पहुंचे ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग लाभान्वित हो सकें।

इसके बाद डीडी न्यूज टीवी चैनल के साथ बातचीत में असम में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या पूछे जाने पर डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि वहां से अभी ऐसे किसी मामले की खबर नहीं है। इस्राइल के प्रधानमंत्री श्री बेन्यामिन नेतन्याहू की भारतीय अभिवादन की परंपरा ‘नमस्ते’ को अपनाए जाने के आह्वान पर उन्होंने कहा कि हमारी प्रत्येक प्राचीन परंपरा और धारणाओं के परिप्रेक्ष्य में कहीं न कहीं विज्ञान का समावेश अवश्य ही परिलक्षित होता है।

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि हवाई अड्डों पर थर्मल स्क्रीनिंग की पर्याप्त व्यवस्था है और देश में दवाइयों तथा मास्क की भी समुचित मात्रा उपलब्ध है, इन चीजों की देश में कोई कमी नहीं है।

बाजार में मास्क की बढ़ती कीमतों के प्रश्न पर उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि जो लोग ऐसे समाज विरोधी कामों में संलिप्त पाए जाएं उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि स्वस्थ व्यक्ति को मास्क की जरूरत नहीं है, लेकिन बीमार लोगों को अवश्य लगाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना को लेकर किसी भी तरह से ‘पैनिक’ की जरूरत नहीं है। इसके लिए दिन में 5-6 बार साबुन से अपने हाथ साफ करने की अनिवार्यता के साथ साथ व्यक्तिगत स्वच्छता की परम आवश्यकता है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि कोरोना वायरस को देखते हुए हम सामूहिक समारोहों से आजकल बचकर रहें तो हम सबके लिए अच्छा होगा।