25 सितंबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज देश को टीबी से मुक्त करने के लिए दिल्ली में TB Harega Desh Jeetega अभियान का शुभारंभ किया। यह अभियान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के उस सपने को मूर्तरूप देगा, जिसके तहत देश को 2025 तक टीबी से मुक्त करने का लक्ष्य है। अभियान का शुभारंभ करते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हमने संकल्प लिया है कि टीबी को हराने का जो लक्ष्य सारी दुनिया ने वर्ष 2030 तक का रखा है लेकिन हम उसे 2025 तक पूरा करेंगे। TB Harega Desh Jeetega अभियान देश के नौ राज्यों में एक साथ शुरू किया गया है। विश्व बैंक के सहयोग से स्वास्थ्य मंत्रालय इन राज्यों में टीबी पर नियंत्रण पाने के लिए 40 करोड़ रूपए की राशि खर्च करेगाा। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने एक जागरूकता एंबुलेंस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।



उन्होंने कहा कि हर हाल में 2025 तक देश से TB की बीमारी को खत्म किया जाएगा। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश व्यापी अभियान शुरू किया गया है। उन्होंने चिंता प्रकट करते हुए कहा कि देश में साढ़े पांच लाख टीबी के मरीज ऐसे हैं, जिन्हें खोजा जाना जरूरी है। यह काम आसान नहीं है, लेकिन सरकार ने ऐसे मरीजों की खोज के लिए सारे साधन जुटा लिए हैं। उन्होंने पूरे विश्वास के साथ कहा कि टीबी हारेगा और देश जीतेगा, बस अब देखना यह है कि हम टीबी को अपने निर्धारित किए लक्ष्य 2025 तक हरा पाते हैं या फिर उससे पहले । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने कई लक्ष्यों को अपने निर्धारित समय से पहले पूरा किया है इसलिए इसबार भी हमें विश्वास है कि हम अपने लक्ष्य को समय से पहले पूरा करने में कामयाब होंगे।

उन्होंने कहा कि हम ऐसे समय में इस काम को आगे लेकर बढ़ रहे हैं जब एक दूरदर्शी प्रधानमंत्री हमारे पास हैं। वो एक जज्बे के साथ काम कर रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि आज हमारा देश पर्यावरण के क्षेत्र में leading from the front से काम कर रहा है और इस बात को हमने कई मौकों पर सिद्ध करके दिखाया है। । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पर्यावरण संरक्षण का सबसे बड़ा सम्मान Champions of the Earth Award से सम्मानित किया जाना इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी 2022 तक एक नया भारत बनाना चाहते हैं। हर व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान लौटाना चाहते हैं, हर व्यक्ति के दुख दर्द को दूर करना चाहते हैं। हर बच्चे के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण की व्यवस्था करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि सरकार ने लक्ष्य तय कर दिए हैं और सारा काम देशवासियों के जिम्मे छोड़ दिया है। सरकार भी अपनी पूरी ताकत के साथ इन कार्यो को पूरा करने में लोगों के साथ खड़ी है। 'टीबी हारेगा, देश जीतेगा' अभियान के शुभारंभ के मौके पर डॉ हर्ष वर्धन ने इस बीमारी से जुड़े अपने दर्द को साझा करते हुए कहा कि कुछ पलों के लिए भावुक हो उठा। टीबी से मैंने अपनी इकलौती बहन को खोया है, इसलिए मैं इसकी भयावहता को समझ सकता हूं।