नई दिल्ली, 12 फरवरी, 2020: केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण,विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज अपने कैबिनेट सहयोगी मानव संसाधन विकास मंत्री डॉक्टर रमेश पोखरियाल निशंक जी के साथ, आयुष्मान भारत के तहत ' स्कूल हेल्थ एंड वेलनेस एम्बेस्डर पहल 'पर राष्ट्रीय कार्यशाला का उद्घाटन किया। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे जी भी इस अवसर पर उपस्थित थे। इनके अलावा स्वास्थ्य और परिवार कल्याण सचिव सुश्री प्रीति सुदान, स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक डॉक्टर राजीव गर्ग, एनसीईआरटी के निदेशक डॉ ऋषिकेश सेनापति, विभिन्न संबन्धित विभागों के सचिव और अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।



कार्यशाला को संबोधित करते हुए मैंने कहा कि यह हर्षोल्लास का अवसर है कि आज हम स्वास्थ्य के साथ शिक्षा क्षेत्र को भी जोड़कर एक महत्वाकांक्षी कार्यक्रम की शुरुआत करने जा रहे हैं। मैंने कहा कि इसी प्रकार हमने 1994 में पल्स पोलियो का सफल प्रयोग किया था, उस समय दिल्ली सरकार में मेरे पास स्वास्थ्य विभाग था और 1996 में मेरे पास शिक्षा मंत्री का भी दायित्व आ गया।

मैंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने गरीब लोगों के लिए आयुष्मान योजना शुरू की है, जिसके तहत सभी को बेहतर स्वास्थ्य उपलब्ध कराने के लिए व्यापक स्वास्थ्य कार्यक्रम की योजना बनाई गयी। संयुक्त राष्ट्र ने इस कार्यक्रम की भूरि-भूरि प्रशंसा की है।

मैंने कहा कि इसका दूसरा महत्वपूर्ण भाग हेल्थ और वैलनेस सेंटर हैं, इस समय इनकी संख्या करीब 30 हज़ार हैं, जो 31 मार्च 2020 तक करीब 40,000 हो जायेंगे और 2022 तक इन्हें डेढ़ लाख तक पहुंचाने का लक्ष्य है।

मैंने कहा कि इनमें करीब-करीब सभी बीमारियों को कवर किया जाता है, जो प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के दिए गए नारे ‘सभी के लिए स्वास्थ्य’ को सार्थक करता है।

मैंने कहा कि शिक्षा विभाग के भी इस कार्यक्रम से जुड़ जाने से, केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण तथा मानव संसाधन विकास मंत्रालय के समन्वय से शुरू हो रही इस पहल से देश के स्वास्थ्य क्षेत्र में दूरगामी परिणाम होंगे।

मैंने कहा कि ‘स्कूल हेल्थ एंड वेलनेस एम्बेस्डर इनिसिएटिव’ किशोर और किशोरियों के हर प्रकार के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की भली-भांति देखभाल के लिए शुरू किया गया है, जिससे देश में एक बहुत बड़ा सकारात्मक बदलाव आएगा। मुझे विश्वास है कि सरकार की यह नई पहल छात्रों को उनके दैनिक जीवन में शारीरिक गतिविधियों, स्वस्थ और पौष्टिक आहार के महत्व पर शिक्षा प्रदान करके स्वस्थ और फिट रहने के लिए प्रोत्साहित करेगी।

इस अवसर पर मैंने कैबिनेट सहयोगियों के साथ आयुष्मान य़ोजना के तहत ‘स्कूल हेल्थ एंड वेलनेस एम्बेस्डर इनिसिएटिव’ पहल के लिए पाठ्यक्रम भी जारी किया।