16 अगस्त 2019: पूर्व प्रधानमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपेयी की प्रथम पुण्यतिथि के अवसर पर आज दिल्ली के डॉ राम मनोहर लोहिया अस्पताल में एक नए मेडिकल कॉलेज Atal Bihari Vajpayee Institute of Medical Sciences का उद्घाटन केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान व प्रौद्योगिकी एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने किया।



इसके साथ ही डॉ हर्ष वर्धन ने आरएमएल अस्पताल में करीब 550 बेड वाले नए सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक की नींव रखी व डॉक्टरों के लिए एक नए हॉस्टल भवन का भी शिलान्यास किया। नए हॉस्टल में 824 रेजिडेंट चिकित्सकों के रहने की व्यवस्था होगी। इस अवसर पर केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री अश्विनी चौबे, दिल्ली के उप राज्यपाल श्री अनिल बैजल व नई दिल्ली की सांसद श्रीमती मीनाक्षी लेखी भी उपस्थित थी।

समारोह को संबोधित करते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि अटल जी उन विरले नेताओं में से हैं जो हमेशा अमर रहेंगे। उन्होंने कहा कि अटल जी ने भारतीय राजनीति पर ऐसा प्रभाव छोड़ा कि देश की राजनीति के पितामह बन गए। उन्होंने कहा कि अगर आज देश में एम्स की संख्या 1 से बढ़कर 22 पहुंची है तो उसके पीछे भी अटल जी की सोच है। अटल जी ने प्रधानमंत्री रहते हुए केवल स्वास्थ्य ही नहीं बल्कि हर क्षेत्र में असाधारण कार्य किए। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि अटल जी के नाम पर संस्था का नाम रखने से हमारी जिम्मेदारी पूरी नहीं हो जाती है। हमें आगे चलकर इस बात का ध्यान रखना होगा कि यह मेडिकल कॉलेज अटल जी के व्यक्तित्व के अनुरूप कार्य भी करे। उन्होंने कहा कि सौभाग्य से इस समय अटल जी की विरासत को अद्भुत प्रतिभा के धनी हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी आगे बढ़ा रहे हैं। प्रधानमंत्री एक ऐसा नया भारत बनाना चाहते हैं जिसमें सभी भारतीयों के चेहरे पर मुस्कान हो और उनके दुखों का निवारण हो। आइए अटल जी और प्रधानमंत्री मोदी के नए भारत के सपने को साकार करने में अपना योगदान दें। इस मौके पर डॉ हर्ष वर्धन ने पूर्व प्रधानमंत्री की कुछ कविताओं का पाठ कर सबका मन मोह लिया।

आरएमएल अस्पताल में एमबीबीएस मेडिकल कॉलेज शुरू किया गया है, जिसमें सौ सीटें निर्धारित की गई हैं। यह दिल्ली का 10वां मेडिकल कॉलेज है, जहां एमबीबीएस की पढ़ाई शुरू की गई है। यह मेडिकल कॉलेज अटल बिहारी वाजपेयी आयुर्विज्ञान संस्थान के नाम से जाना जाएगा। सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक दो साल में तैयार होगा। स्पेशियलिटी ब्लॉक के निर्माण की योजना स्वास्थ्य मंत्रालय की सौ दिन की प्रमुखता सूची में शामिल थी।