नई दिल्ली, 07-05-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने देश में कोविड के वर्तमान हालात और तैयारियों को लेकर आज राज्यसभा टीवी को साक्षात्कार दिया। उन्होंने कहा कि भारत कोविड 19 के खिलाफ कदम उठाने वाला पहला देश है। जिसने चीन से 7 जनवरी 2020 को नए कोरोना वायरस की खबर के बाद मात्र 24 घंटे के अंदर ही एक्शन ले लिया था। डॉ हर्ष वर्धन ने भारत द्वारा क्रमबद्ध तरीके से अपनाई गई रणनीति के बारे में विस्तार से बताया।



उन्होंने बताया कि भारत में कोरोना से पीड़ित मरीजों की मृत्यु दर सबसे कम है। भारतीय वैज्ञानिक करीब 1500 कोरोनावायरसों की जेनेटिक सीक्वेसिंग पर काम कर रहे हैं। डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हमारी रणनीतियों के बारे में विशेष बातें साझा करने के लिए विश्व के स्वास्थ्य मंत्रियो के साथ बैठक कराई। जिसमें उन्होंने कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग,सामुदायिक निगरानी और अन्य महत्वपूर्ण बातें बताईं।

डॉ हर्ष वर्धन ने माननीय प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व और अभिनव विचारों के बारे में बात की, जिन्होंने लॉकडाउन 21 के लिए देश को तैयार करने से पहले 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लागू किया। डॉ हर्ष वर्धन ने लॉकडाउन से पहले और बाद में डबलिंग रेट में भारी बदलाव का भी उल्लेख किया।

उन्होंने लॉकडाउन सिद्धांतों का ईमानदारी से पालन करने और इसे सफल बनाने के लिए भारत के लोगों की प्रशंसा की। डॉ हर्ष वर्धन ने लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने और अंतिम सफलता प्राप्त कर लेने तक गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करने की अपील की।