नई दिल्ली,15 फरवरी, 2020: केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण,विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन आज कोलकाता के विश्व बांग्ला कन्वेंशन सेंटर में आयोजित Rotary India Centennial Summit 2020 के 3 दिवसीय सम्मेलन में Guest of Honour के रूप में सम्मिलित हुए। इसमें देश-विदेश के करीब चार हजार प्रतिनिधि शामिल हो रहे हैं। डॉ हर्ष वर्धन ने रोटरी क्लब के चौथे सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि कोलकाता में रोटरी इंडिया सेंटेनियल सम्मिट का आयोजन इसलिए महत्वपूर्ण है क्यूंकि यह वैज्ञानिकों और महापुरुषों का शहर है और 100 वर्ष पूर्व इसी शहर में प्रथम रोटरी क्लब बनाया गया था।



डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि रोटरी क्लब से वे 1994 से जुड़े हुए हैं जब दिल्ली सरकार में वे स्वास्थ्य मंत्री थे। उन्होंने बताया कि 20 दिसंबर 1993 को देखे दिल्ली को पोलियो मुक्त करने के सपने को साकार करने के लिए रोटरी क्लब से जुड़कर उन्होंने पल्स पोलियो अभियान की शुरुआत की।

डॉ हर्ष वर्धन ने 1994 के पोलियो उन्मूलन अभियान को याद करते हुए कहा कि माइनस 20 डिग्री तापमान के नीचे दिल्ली के 43 क्षेत्रीय केंद्रों से पोलियो वैक्सीन को इकट्ठा कर चार हजार पोलियो केंद्रों तक पहुंचाना एक चुनौतीपूर्ण काम था, लेकिन रोटरी ने वह काम कर दिखाया।

डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि पहले उन्होंने दिल्ली को पोलियो मुक्त किया और बाद में देश से पोलियो का उन्मूलन किया गया। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि पोलियो उन्मूलन अभियान में रोटरी के योगदान की सराहना करते हुए कहा कि इस तथ्य की अनदेखी नहीं की जा सकती कि दुनिया को पोलियो मुक्त करने का सपना विश्व स्वास्थ्य संगठन से भी पहले रोटरी ने देखा था।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि रोटरी क्लब, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार द्वारा गरीबों के लिए बनाई गयी महत्वाकांक्षी योजना आयुष्मान भारत के साथ जुड़ सकता है और देश के करीब 55 करोड़ गरीबों को राहत प्रदान करने में मददगार साबित हो सकता है। इसके लिए भारत सरकार अब तक करीब 30,000 हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर बना चुकी है और 2022 तक ये संख्या 1,50,000 तक पहुंचाने का लक्ष्य है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में ये योजना मील का पत्थर साबित होगी।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि ‘सभी के लिए स्वास्थ्य’ की सफलता के लिए रोटरी जैसी संस्थाओं की तरह सभी की भागीदारी जरूरी है। उन्होंने बताया कि पोलियो के बाद अब 2025 तक देश को टीबी मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है और मिशन इन्द्रधनुष के तहत देश के हरेक बच्चे तक टीकाकरण पहुंचाने का लक्ष्य है।

इस अवसर पर डॉ हर्ष वर्धन ने Eat Right India और Fit India Movement के महत्व पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि सही और कम खाने के साथ-साथ प्रतिदिन व्यायाम किया जाए तो 50 फीसदी बीमारियां अपने आप खत्म हो सकती हैं।