05 नवंबर 2019: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज साइंस सिटी कोलकाता में 5वें भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के उद्धाटन समारोह को संबोधित किया। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह महोत्सव ऐसे स्थान पर हो रहा है, जिसने ज्ञान-विज्ञान के हर क्षेत्र में मानवता की सेवा करने वाली महान विभूतियों को पैदा किया है। उन्होंने कहा कि देश विज्ञान और प्रौद्योगिकी का ecosystem बहुत मजबूत होना चाहिए। एक ऐसा इकोसिस्टम जो प्रभावी भी हो और पीढ़ी दर पीढ़ी को प्रेरणा देने वाला भी हो और हम इसी दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए कहा कि आप सब Long Term Benefit, Long Term Solutions के बारे में सोचते हुए आगे बढ़िए। इन सभी कोशिशों के बीच आपको अंतरराष्ट्रीय नियमों, उसके मापदंडों का भी हमेशा ध्यान रखना होगा। उन्होंने कहा कि विज्ञान में Failure नहीं होते, सिर्फ Efforts होते हैं, Experiments होते हैं, और Success होता है। इन बातों को ध्यान में रखते हुए आप आगे बढ़ेंगे तो न तो विज्ञान के क्षेत्र में और न जीवन में कोई परेशानी आएगी।



इससे पहले आज कोलकाता में भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने विदेशी मंत्रियों और राजनायिकों से मुलाकात की। सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत का अपने कई निकट पड़ोसियों और अन्य भागीदार देशों के साथ साझा अतीत और अटूट सहयोग रहा है। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र की वर्तमान सरकार विज्ञान को बढ़ावा देने के प्रति वचनबद्ध है जो सामान्यजन का जीवन सुगम बनाता है और देश में समान और सतत विकास को बढ़ावा देता है।

उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय द्विपक्षीय सहयोग के साथ भारत ने अब प्रौद्योगिकी और नवाचार के माध्यम से समाज की बड़ी चुनौतियों का समाधान निकालने का काम शुरू कर दिया है। आज हम जीका, टीबी, मलेरिया और डेंगू के वैक्सीन तैयार करने की कोशिश करने के साथ स्वच्छ ऊर्जा के विकास और जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव को कम करने के नए स्मार्ट सोलूशन इजाद कर रहे हैं। हम फसल उत्पादकता बढ़ाने, जल के पुन: उपयोग और मानसून के पूर्वानुमान तथा प्राकृतिक आपदा के पूर्वानुमान समेत मौसम के पूर्वानुमान का अध्ययन भी कर रहे हैं।

इसके बाद डॉ हर्ष वर्धन भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव में स्टूडेंट साइंस विलेज में बच्चों से रूबरू हुए। इन छात्रों को संसद सदस्यों ने अपने संसदीय क्षेत्रों में प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के अंतर्गत चुने गए गांवों से नामांकित किया है। साइंस विलेज के जगदीश चंद्र बोस हॉल में बच्चों को संबोधित करते हुए उन्होंनें कहा कि कहा कि आम लोगों और विशेषकर बच्चों के दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को बेहतर बनाने के लिए उन तक विज्ञान और प्रौद्योगिकी की पहुँच बनाना जरूरी है। साइंस विलेज में भारत की अनेकता में एकता भी देखने को मिल रही है जिसमें विभिन्न प्रांतो के बच्चों को एक मंच पर देखना और विज्ञान के प्रति उनकी ललक एक सुनहरे भारत की तस्वीर पेश करता दिखा।