Prime Minister Modi is New India’s Dadhichi: Dr Harsh Vardhan


नए भारत के दधीचि हैं पीएम मोदी: डॉ हर्ष वर्धन



Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan today visited New Delhi-based National Gallery of Modern Art where around 1900 mementos offered to Prime Minister Narendra Modi from across the world have been put up for auction. Money generated from these mementos’ auction will be utilised for the ambitious ‘Namami Gange’ programme.



नई दिल्ली (28 जनवरी, 2019) : केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश विदेश में भेंट किए गए लगभग 1900 स्मृति चिन्हों को इंडिया गेट स्थित राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय में जाकर देखा। उन्होंने नीलामी प्रक्रिया में हिस्सा लेने वाले व्यक्तियों और दर्शकों से जब प्रधानमंत्री के इस निर्णय के बारे में प्रतिक्रिया पूछी तो सभी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस निर्णय की भूरि-भूरि प्रशंसा की।

Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan today visited New Delhi-based National Gallery of Modern Art where around 1900 mementos offered to Prime Minister Narendra Modi from across the world have been put up for auction. Money generated from these mementos’ auction will be utilised for the ambitious ‘Namami Gange’ programme. When Dr Harsh Vardhan asked people attending the auctioneering process about the Prime Minister’s decision to put priceless mementos under the hammer, they were found to be short of words in their praise for Prime Minister Modi.

डॉ हर्ष वर्धन ने प्रधानमंत्री को नये भारत का ऋषि दधीचि बताते हुए कहा कि जबसे नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री का पदभार संभाला है, उसी दिन से वे नये भारत के निर्माण के लिए दिन रात एक करके भारत का नाम सारी दुनिया में रोशन किया है। उनका वश चले तो वे राष्ट्र निर्माण की खातिर अपनी अस्थियों को भी समर्पित कर सकते हैं। जो कार्य पिछले 70 वर्षों में नहीं हुए ते उनको श्री मोदी ने साढ़े चार वर्ष में संभव करके दिखा दिया है। जो भारत विश्व की नजर में संपेरों, जादूगरों और निर्धनों का देश माना जाता था, आज वही भारत विश्व को आधुनिकतम तकनीक प्रदान कर रहा है।

Describing Modi as ‘Dadhichi’ of modern India, the Union Minister said since the day he seated himself on the prime ministerial chair, he has started working very hard towards realising India of his dreams. Dr Harsh Vardhan said that for the sake of the nation, the Prime Minister is ready to sacrifice his life too. What could not be achieved in the past 70 years, the Prime Minister has done so in just four and half years.

मौके पर मीडिया कर्मियों से बात करते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि हमारी पवित्र गंगा मां के लिए प्रधानमंत्री जी का ये आइडिया काफी इनोवेटिव है। देश के लोगों ने जो अपने प्रेम को गूंथकर इतने सारे प्रशंसा पत्र और मोमेंटो दिए हैं उसे प्रधानमंत्री गंगा की पवित्रता को अक्षुण्ण रखने के लिए देश के लोगों के साथ साझा कर रहे हैं।

The Union Minster said the same world which used to look down upon India as a place of snake charmers, magicians and the poor, is today acknowledging the country’s prowess in the field of modern science and technology.

इस अवसर पर डॉ हर्ष वर्धन ने प्रधानमंत्री के निर्णय की सराहना करते हुए कहा कि श्री नरेंद्र मोदी देश के एक मात्र ऐसे प्रधानमंत्री है जिन्होंने स्वयं को भेंट किये गए स्मृति चिन्हों को भी नीलाम करके उससे एकत्रित धनराशि को 130 करोड़ देशवासियों की आस्था के प्रतीक गंगा नदी को निर्मल बनाने में खर्च करने को कहा है। नमामि गंगे परियोजना समय से पहले ही पूर्ण को हो जाए इसके लिए प्रधानमंत्री प्रतिबद्ध है। वे इस परियोजना की निजी तौर पर मॉनिटरिंग करते हैं।

Admiring the Prime Minister’s decision, Union Minister Dr Harsh Vardhan said Modi has been the only Prime Minister in the country who has put up for auction mementos offered to him. Revenue generated from such move would be utilised for the Namami Gange project. The Union Minster said the Prime Minister monitors the Namami Gange project closely and is committed to see that it gets completed before the time.

प्रधानमंत्री को भेंट से मिले स्मृति चिन्हों में सोना, चांदी, पीतल, मिश्रित घातु, कांच, चीनी मिट्टी, काष्ट कपड़ा आदि से निर्मित वस्तुएं शामिल हैं। नीलामी 27 जनवरी से प्रारंभ है। इनकी ई-नीलामी 29 से 31 जनवरी तक होगी।

These mementos include products made of gold, silver, brass, copper, glass, bone china, wood and cloth. The auctioneering process is on from January 27 while e-auction will start from January 29 to 31.