1 नवम्बर 2019 - केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन आज दिल्ली के छिपीवाड़ा में इस्कॉन मंदिर के कार्यक्रम में शामिल हुए। आज छिपीवाड़ा में इस्कॉन का नवनिर्मित मंदिर श्री प्रभुपाद जी को समर्पित किया गया। इस दौरान केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने नवनिर्मित मंदिर में पूजा अर्चना की और श्री गोपाल कृष्ण गोस्वामी जी महाराज का आशीर्वाद लिया।



डॉ हर्ष वर्धन ने मंदिर में अन्य साधकों से मुलाकात की और मंदिर परिसर में विदेशों से आये भक्तों से भी मुलाकात की, इन विदेशी मेहमानों के मुँह से प्रभु श्री कृष्ण की महिमा और उनके भजनों को सुनकर केंद्रीय मंत्री अत्यधिक आनंदित हुए।

केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि इस्कॉन मंदिर का माहौल बड़ा ही अद्‍भुत होता है। हरे रामा-हरे कृष्णा, हरे कृष्णा-हरे हरे की धुन में डूबे भक्त और हर तरफ कृष्ण नाम का अनुपम स्वर। गले में तुलसी की माला डाले अपने प्रभु में लीन नाचते झूमते अनुयायी। कहीं कोई चिंता नहीं, कोई बैर-भाव नहीं। बस प्रभु नाम की मस्ती जो आपको अनुपम जोश से भर देती है।

यहाँ ऐसी मान्यता है कि धर्म के चार स्तम्भ, तप, शौच, दया तथा सत्य हैं। जिसका व्यावहारिक पालन करने हेतु इस्कॉन के कुछ मूलभूत नियम हैं। जिसके तहत-

तप : किसी भी प्रकार का नशा नहीं। चाय, कॉफ़ी भी नहीं।
शौच : अवैध स्त्री/पुरुष गमन नहीं।
दया : माँसाहार/ अभक्ष्य भक्षण नहीं। (लहसुन, प्याज़ भी नहीं)
सत्य : जुआ नहीं। (शेयर बाज़ारी भी नहीं)