24 जुलाई, 2019: केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज स्वास्थ्य मंत्रालय, नई दिल्ली में नीदरलैंड के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। नीदरलैंड के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व वहां के आर्थिक मामलों और जलवायु नीति मंत्रालय के सेक्रेटरी जनरल मार्टिन कैम्प्स ने किया। बैठक में मुख्य रूप से नई दिल्ली में इस साल 15-16 अक्टूबर को होने वाले 25वें डीएसटी- सीआईआई प्रौद्योगिकी सम्मेलन पर चर्चा हुई। नीदरलैंड इस सम्मेलन में मुख्य भागीदार देश है। इस वर्ष का प्रौद्योगिकी शिखर सम्मेलन स्वास्थ्य सेवा, जल और कृषि पर केंद्रित होगा|



बैठक में डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि दोनों देशों के बीच जल, सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं, स्मार्ट ऊर्जा ग्रिड और डेटा आधारित विज्ञान पर पहले से ही संयुक्त रुप से काम हो रहा है, लेकिन इसे और अधिक ऊंचाई पर ले जाए जाने की जरुरत है। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि प्रौद्योगिकी शिखर सम्मेलन में ऊर्जा, डिजाइन और रचनात्मक उद्योग, शिक्षा, साइबर सुरक्षा, अंतरिक्ष और स्टार्ट-अप जैसे विषयों पर आपसी सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की जाएगी। उन्होंने दोनों देशों के संबंधों की सराहना की। प्रमुख सामाजिक चुनौतियों का सामना करने और जल, स्वास्थ्य, कृषि, उच्च तकनीक प्रणालियों और आईटी जैसे क्षेत्रों में नए बाजार खोलने में भारत के साथ नीदरलैंड का अहम् योगदान है।

बैठक में भारत की ओर से विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव प्रोफेसर आशुतोष शर्मा, IBCD के सलाहकार और प्रमुख संजीव कुमार वार्ष्णेय और IBCD की वैज्ञानिक डॉ उज्ज्वला टिर्की शामिल थी।, जबकि नीदरलैंड के प्रतिनिधिमंडल में दिल्ली में नीदरलैंड के राजदूत मार्टेन वेन डेन बर्ग भी थे।