नेशनल मेडिकल कमीशन एक्ट 2019 के प्रति अपना समर्थन जताने के लिए आज दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन के एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्ष वर्धन से उनके कार्यालय में मुलाकात की । प्रतिनिधिमंडल में डीएमए के अध्यक्ष डॉ गिरीश त्यागी, निर्वाचित अध्यक्ष डॉ बी बी वाधवा, डॉ प्रेम अग्रवाल, डॉ हरीश गुप्ता, डॉ अनिल गोयल, डॉ राकेश गुप्ता, डॉ नरेश चावला, डॉ हंसराज बवेजा, डॉ एच सी एल गुप्ता, डॉ अनिल बंसल समेत DMA के कई पूर्व अध्यक्ष व वरिष्ठ डॉक्टर शामिल थे।



A delegation of Delhi Medical Association today met Union Health and Family Welfare Minister Dr Harsh Vardhan in his office to show their support towards the National Medical Commission Act 2019. The delegation included DMA President Dr. Harish Tyagi, Elected President Dr. VP Badhwa, Dr. Prem Aggarwal, Dr. Harish Gupta, Dr. Anil Goyal, Dr. Rakesh Gupta, Dr. Naresh Chawla, Dr. Hansraj Baweja, Dr. HCL Gupta, Dr. Anil Bansal and such senior DMA doctors were involved.



प्रतिनिधिमंडल ने NMC Act 2019 को एक बड़ा सुधारवादी कदम करार देते हुए इसे मोदी सरकार का एक क्रांतिकारी फैसला बताया। डॉक्टरों ने इस कानून के लिए सरकार को बधाई देते हुए कहा कि नये कानून से चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में भ्रष्टाचार खत्म होगा और पारदर्शिता आएगी।

The delegation termed the NMC Act 2019 as a major reformist step and called it a revolutionary step of the Modi government. The doctors congratulated the government for this law and said that the new law will end corruption in the field of medical education and bring transparency.

इस अवसर पर डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि नेशनल मेडिकल कमीशन का गठन अगले 6 महीनों में पूरा हो जाएगा। नये कानून को लेकर डॉक्टरों की सभी शंकाएं दूर कर दी गई है और यह कानून चिकित्सा के क्षेत्र में आनेवाले दिनों में ऐतिहासिक साबित होगा। उन्होंने कहा कि NMC के 33 में से 29 सदस्य दिग्गज डॉक्टर होंगे जो इससे संबंधित सभी फैसले लेंगे। यह आशंका बिल्कुल निराधार है कि इससे मेडिकल शिक्षा महंगी हो जाएगी और मेडिकल छात्रों को परेशानी होगी बल्कि इस बिल के कानून बनने से छात्रों को कम फीस में गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा शिक्षा उपलब्ध होगी और साथ ही भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा। उन्होंने डॉक्टरों को भरोसा दिलाया कि अस्पतालों में डॉक्टरों के साथ होने वाली मारपीट पर रोकथाम के लिए सरकार जल्द ही कानून लाएगी, जिसका मसौदा तैयार कर लिया गया है।

On this occasion, Dr. Harsh Vardhan said that the formation of National Medical Commission will be completed in the next 6 months. All the doubts of the doctors regarding the new law have been cleared and this law will prove to be historic in the coming days in the field of medicine. He said that 29 of the 33 members of the NMC will be veteran doctors who will take all decisions related to it. It is absolutely unfounded that the medical education will become expensive and troublesome to the medical students, but due to the enactment of this bill, the students will be provided quality medical education at a low fee and at the same time, corruption will be curbed. He assured the doctors that the government will soon introduce a law to prevent the assault on doctors in hospitals, which has been drafted.