नई दिल्ली, 13-06-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री उद्धवजी बालासाहेब ठाकरे जी ने संयुक्त रूप से, मुंबई शहर के लिए अत्‍याधुनिक एकीकृत बाढ़ चेतावनी प्रणाली IFLOWS- Mumbai का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए औपचारिक रूप से शुभारंभ किया। इसके तहत अत्‍यधिक वर्षा की घटनाओं और चक्रवातों के दौरान मुम्‍बई के लिए प्रारंभिक चेतावनी का प्रावधान किया गया है।



इस अवसर पर डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के कारण बढ़ते तापमान और मॉनसून में बदलाव द्वारा भारत में अत्यधिक वर्षा की घटनाएं बढ़ रही हैं। महाराष्ट्र राज्य की राजधानी और भारत की वित्तीय राजधानी, मुंबई महानगर, लम्‍बी अवधि वाली बाढ़ों की त्रासदी झेलता रहा है तथा 29 अगस्त 2017 और 26 जुलाई 2005 को आई बाढ़ की स्‍मृतियां शायद मुंबई के प्रत्‍येक नागरिक के मानस पटल पर ताज़ा होंगी। बाढ़ के लिए तैयारी के रूप में, लोगों को चेताया जाना चाहिए ताकि वे बाढ़ आने से पहले हालात से निबटने के लिए तैयार हो सकें।

केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने ग्रेटर मुंबई नगर निगम के गहरे तालमेल के साथ मंत्रालय के भीतर उपलब्‍ध विभागीय दक्षता के बल पर जुलाई 2019 में IFLOWS-Mumbai का विकास प्रारंभ किया था।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि I-FLOWS एक मॉड्यूलर संरचना पर बनाया गया है। इसमें डेटा एसिमिलेशन, फ्लड, इनड्यूशन, वल्नेरेबिलिटी, रिस्क, डिसिमिनेशन मॉड्यूल और डिसीजन सपोर्ट सिस्टम जैसे सात मॉड्यूल हैं। सिस्टम में NCMRWF और IMD से मौसम मॉडल, IITM, MCGM और IMD द्वारा स्‍थापित वर्षा गेज नेटवर्क स्टेशनों से क्षेत्र डाटा, भूमि उपयोग पर थीमेटिक लेयर्, MCGM द्वारा बुनियादी ढांचे आदि प्रदान किए गए हैं।