नई दिल्ली, 23-06-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने एक देश–दो वि‍धान, दो प्रधान–दो नि‍शान’ नहीं चल सकते का नारा देने वाले, मानवता के उपासक और सिद्धान्तवादी राजनीतिज्ञ परम श्रद्धेय डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के बलिदान दिवस पर आज प्रात:काल एक कार्यक्रम में शामिल हुए और उनकी प्रतिमा पर पुष्पार्पण कर अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए।



डॉ. मुखर्जी जी ने अक्टूबर, 1951 में भारतीय जनसंघ की आधारशिला रखी और उनके नेतृत्व में देश में दो विधान, दो प्रधान, दो निशान− नहीं चलेंगे' के नारे गांव−गांव में गूंजने लगे।

भारतीय जनसंघ से प्रारंभ होकर आज BJP4India विश्व में सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बन चुकी है। डॉ. मुखर्जी इस धारणा के प्रबल समर्थक थे कि सांस्कृतिक दृष्टि से हम सब एक हैं। इसी क्रम में आगे बढ़ते हुए भारत के आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी एवं माननीय गृह मंत्री श्री अमित शाह जी के साहसिक निर्णय ने 5 अगस्त 2019 को कश्मीर से धारा 370 को राष्ट्रहित में समाप्त कर डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी जी को सच्ची श्रद्धांजलि देने का कार्य किया था। आज कश्मीर में लहराते हुए तिरंगे को देखकर स्वर्ग में उनकी आत्मा अत्यंत प्रसन्न होगी।