08 दिसंबर 2019: केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी व पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज झांसी में महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज के नवनिर्मित सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक का लोकार्पण किया। कार्यक्रम में उनके साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी व राज्य के चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश खन्ना जी भी मौजूद रहे।



कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि उत्तर प्रदेश की धरती का मैं ऋणी हूं। आज से 45 वर्ष पूर्व मैंने कानपुर मेडिकल कॉलेज से डाक्टरी की शिक्षा प्राप्त की और आज यहां आकर प्रसन्न हूं। उन्होंने कहा कि सरकार ने देश भर में 5 वर्षों में 26 मेडिकल कॉलेज बनाने का लक्ष्य रखा है और जो प्रदेश सबसे पहले डीपीआर बना लेगी उसे पहले स्वीकृति मिल जायेगी। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 14 मेडिकल कॉलेज की डीपीआर भेजी जिसमें 13 स्वीकृत हो गए हैं और एक अन्य को भी जल्द स्वीकृत कर दिया जाएगा । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना है कि देश में डॉक्टरों की कमी को दूर किया जाये और उनका सपना साकार हो रहा है। सरकार ने प्रदेश में 6 एम्स बनाये जाने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही एमबीबीएस में 29 हजार सीट बढ़ाई गयी तथा पोस्ट ग्रेजुएशन में भी 17 हजार सीटों की वृद्वि की है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि डॉक्टरों को मरीजों के प्रति संवेनशील होना चाहिए। डॉक्टर अगर मरीजों से प्यार से पेश आएं तो उनकी आधी बीमारी अपने आप ही दूर हो जाती है। मरीज जिस पृष्ठ भूमि से आया है और उसे जिस जगह इलाज कराना है, दोनों के बीच बहुत बड़ा अंतर है। उस अंतर को भरने में डॉक्टर सबसे बड़ी भूमिका निभा सकते हैं। जब डॉक्टर मरीज के प्रति अच्छा व्यवहार नहीं करते हैं, तो वह क्षुब्ध होता है। इससे पूरा का पूरा मेडिकल पेशा बदनाम होता है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद 70 वर्षों में उत्तर प्रदेश में केवल 12 राजकीय मेडिकल कॉलेज बने थे। हमारी सरकार पांच वर्ष में 29 नए मेडिकल कॉलेज बनाने जा रही है। सरकार के कार्य की गति सिर्फ इसी क्षेत्र में ही नहीं, अन्य क्षेत्रों में भी है। प्रदेश के अंदर स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिए हमने कई ठोस कदम उठाए हैं। दो एम्स रायबरेली और गोरखपुर में शुरू हो चुके हैं। इसके साथ ही 6 सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक अन्य मेडिकल कॉलेजों में खोले जा रहे हैं।