28 अगस्त, 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण, विज्ञान व प्रौद्योगिकी एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज दिल्ली के लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज परिसर स्थित कलावती सरन चिल्ड्रेंस हॉस्पिटल में अत्याधुनिक गैस मैनिफोल्ड प्लांट व मरीजों के तीमारदारों के लिए एक प्रतीक्षालय का शुभारंभ किया। इस मौके पर स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे जी समेत कई वरिष्ठ अधिकारी व चिकित्सक मौजूद थे।



कलावती सरन चिल्ड्रेन हॉस्पिटल परिसर में गैस मैनिफोल्ड प्लांट के शुरू होने से अस्पताल के सभी वार्डों के 250 से अधिक बेड तक ऑक्सीजन की केंद्रीकृत आपूर्ति की सुविधा उपलब्ध हो गई है। आधुनिक तकनीक से युक्त इस प्लांट की भंडारण क्षमता 13000 किलोग्राम है। कलावती सरन चिल्ड्रेंस हॉस्पिटल में भर्ती बच्चों के परिजनों की सुविधा के लिए खोले गए प्रतीक्षालय की क्षमता 80 से अधिक लोगों की है। विभिन्न जन सुविधाओं के साथ यहां महिला तीमारदारों के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। लेडी हार्डिंग कॉलेज में नवीनीकरण योजना के तहत आज उन्होंने 3-T MRI सेंटर का भी उद्घाटन किया। 13.6 करोड़ रु. की लागत की यह मशीन MRI तकनीक के क्षेत्र में अत्याधुनिक है व इससे कम समय में रोगी की जांच हो सकेगी।

इस अवसर पर अपने संबोधन में केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि 1994 में जब मैंने दिल्ली में पोलियो मुक्त अभियान चलाया था तो इस संस्थान और मेडिकल छात्रों ने काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

उन्होंने कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने मेडिकल क्षेत्र में शताब्दी का सबसे बड़ा सुधार किया तो बहुत से डाक्टर और मेडिकल के छात्रों को गलतफहमी हो गई थी कि मेडिकल कमीशन बिल उनके हित में नहीं है लेकिन उस समय हमारी अपील पर लेडी हार्डिंग मेडिकल काजेल की बच्चियों ने सबसे पहले अपनी हड़ताल वापस ली थी, जिसका प्रभाव अन्य अस्पतालों पर पड़ा और धीरे-धीरे सबने अपना विरोध वापस लिया। उन्होंने कहा कि मेडिकल की किसी भी समस्या का समाधान मेडिकल संस्थान से ही निकलेगा इसलिए हमें उसी सोच के साथ काम करना है कि हम इस क्षेत्र में सुधार और समस्याओं का समाधान करने के लिए क्या कर सकते हैं।