नई दिल्ली, 03-05-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कोविड 19 की चुनौती से निपटने के लिए सरकार द्वारा मुस्तैदी से उठाए जा रहे कदमों के बीच आज दिल्ली के लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज पहुंच कर तैयारियों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने जी-जान से इस वायरस को हराने में जुटे डॉक्टरों से भी चर्चा करी और उन्हें जरूरी निर्देश दिए।



इस दौरान डॉ हर्ष वर्धन ने वीडियो कॉल के जरिए इसी अस्पताल में भर्ती एक महिला डॉक्टर समेत अन्य कोरोना संक्रमित मरीज़ों से बात करी। उन्होंने संक्रमित डॉक्टर का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि देश आप जैसे कोरोना वारियर्स की बदौलत ही कोविड19 को हराने में कामयाब होगा।

डॉ हर्ष वर्धन ने संक्रमण से बचाव हेतु आवश्यक चिकित्सीय व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। अस्पताल में कोविड19 से लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों की हौसला अफ़ज़ाई की।

अस्पताल में एक प्रस्तुतीकरण के जरिए बताया गया कि यहां करीब 175 बेड्स की व्यवस्था है। इसके अलावा आसपास के दो होटलों को भी आपातकालीन परिस्थितियों के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है।

अस्पताल में पर्याप्त मात्रा में पीपीई, मास्क और वेंटीलेटर्स की व्यवस्था है। यहां पर 18 स्वास्थ्य कर्मी कोरोना से संक्रमित पाए गए। इस दौरान डॉ हर्ष वर्धन ने वीडियो कॉल पर कोरोना संक्रमित डॉक्टर व अन्य मरीज़ों से बात करने पर जाना कि उनके हौसले बुलंद हैं। अस्पताल में इस युद्ध से लड़ रहे डॉक्टर्स, स्वास्थ्यकर्मी व पेरामेडिक्स के जज़्बे में कोई कमी नहीं है।आज ऐसे ही लाखों कोरोनावारियर्स के सम्मान में सेना ने आसमान से पुष्प वर्षा करी है।

अस्पताल के दौरे का बाद डॉ हर्ष वर्धन ने मीडिया को बताया कि कोविड के खिलाफ लड़ाई में भारत की स्थिति बेहतर होती जा रही है। इस वैश्विक महामारी से निपटने में भारत द्वारा उठाए गए क़दमों की विश्व स्वास्थ्य संगठन भी प्रशंसा कर रहा है। आज देश में 10 हजार से ज्यादा मरीज ठीक होकर खुशी-खुशी अपने-अपने घर जा चुके हैं। जो भर्ती हैं उनमें भी ज्यादातर ठीक होने के करीब हैं।

कोरोना के मरीजों के दोगुने होने की दर बढ़कर 12 दिन हो गई है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि अब देश में 312 सरकारी और 111 निजी क्षेत्र की लैब हैं। जबकि जनवरी में हमारे पास मात्र पुणे में एक लैब थी। देश मे अब तक दस लाख टेस्ट हो चुके हैं। कल एक ही दिन में 74 हजार टेस्ट किए गए हैं। अभी तक देश में 50 लाख मास्क और 20 लाख पीपीई वितरित किए जा चुके हैं। भारत 99 देशों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टेबलेट भेज चुका है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि वैसे तो ऐसी स्थिति आने वाली नहीं है फिर भी बहुत ही विषम परिस्थितियों से निपटने के लिए हमारे पास आइसोलेशन और आई सी यू के ढाई लाख बेड्स की व्यवस्था है।

देश के 319 जिले कोरोना से बेअसर हैं और 284 जिलों में कोई हॉट स्पॉट नहीं है। देश के केवल 130 जिलों में हॉट स्पॉट हैं । जिन्हें केसों के आधार पर रेड,ओरेंज और ग्रीन जोन में बांटा गया है। जहां कोरोना की रणनीति के अनुसार इलाज किया जा रहा है।