29 दिसम्बर, 2019: आज केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने तरमणी, चेन्नई में अगली पीढ़ी के ऊर्जा भंडारण समाधान हेतु "CSIR Innovation Centre for Next Generation Energy Storage Solutions" का शिलान्यास किया। इसके अतिरिक्त केन्द्रीय मंत्री ने fuel cell testing facility का भी शुभारंभ किया और मुआइना भी किया।



केन्द्रीय मंत्री ने पर्यावरण अनुकूल बैटरी चालित एक ई-स्कूटर को चलाया और वैज्ञानिकों को उनके शोध और प्रयोगों के लिए बधाई दी। बताते चलें कि यह संस्थान, लिथियम-आयन, सोडियम-आयन, लिथियम सल्फर और मेटल एयर बैटरी प्रौद्योगिकियो जैसी नई पीढ़ी की बैटरी प्रणालियों में प्रमुख शोध कर रहा है।

डॉ हर्ष वर्धन ने यहां स्थित lithium battery fabrication facility क भी दौरा किया जहां हर दिन 100 cells का निर्माण किया जाता है। यहां उन्होंने निर्मित किए जा रहे cells को प्रत्यक्ष रूप से तैयार होते देखा जो EVs और अन्य applications को चलाने में उपयोग में लाए जाते हैं।

केन्द्रीय मंत्री ने अपने संबोधन में बताया भारत में अपनी तरह का यह पहला सुविधा सेन्टर होगा जहां 100 मेगा वाट क्षमता तक की लिथियम बैटरी का निर्माण होगा। यह इनोवेशन सेंटर भारतीय उद्योगों की पर्यावरण अनुकूल, लागत प्रभावी और ऊर्जा कुशल प्रौद्योगिकी के माध्यम से लिथियम बैटरी निर्माण सुविधा आवश्यकताओं को आंशिक रूप से पूरा करेगा।

केन्द्रीय मंत्री ने CSIR पर गर्व जताते हुए कहा कि इस संस्थान ने आज़ादी के बाद से देश के विकास लिए बहुत बड़े-बड़े कार्य किए हैं व बड़ी उपलब्धियां हासिल की हैं। उन्होंने कहा कि चाहे देश का वैज्ञानिक हो, इंडस्ट्री हो, शोध संस्थान हो या राजनैतिक व्यवस्था, हम सब एक परिवार जैसे हैं और हमारा मुख्य ध्येय देश के लोगों की समस्याओं का हल निकालना है, उन्हें समाधान देना है। उन्होंने भरोसा जताया कि यह इनोवेशन सेंटर कॉम्प्लेक्स हमारे देश की ऊर्जा भंडारण आवश्यकताओं को पूरा कर आत्मनिर्भर होने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम साबित होगा ।