Scientists need to work for common people


आम लोगों की समस्याओं का समाधान करें वैज्ञानिक



The five five-day 106th Indian Science Congress that began today, remained true to its theme: Future India-Science and Technology. Prime Minister Shri Narendra Modi Ji in his inaugural address said India, with the help of modern science and technology, is working hard to secure its future. He also laid focus on the glorious past of Indian science and contributions made by legendary scientists like C V Raman, J C Bose, Meghnath Saha and S N Bose towards the advancement of science.



January 3, 2019, Jalandhar: The five five-day 106th Indian Science Congress that began today, remained true to its theme: Future India-Science and Technology. Prime Minister Shri Narendra Modi Ji in his inaugural address said India, with the help of modern science and technology, is working hard to secure its future. He also laid focus on the glorious past of Indian science and contributions made by legendary scientists like C V Raman, J C Bose, Meghnath Saha and S N Bose towards the advancement of science.

He highlighted how over the years, popular narrative towards science has changed in the country. In this regard, he reminded the gathering about the addition of word science by former Prime Atal Behari Vajpayee Ji to the existing ‘Jai Jawan, Jai Kisan’ slogan that was given by former Prime MinisterLal Bahadur Shastri Ji (during the war with Pakistan in the 1965 War).

जालंधर, (3 जनवरी 2019) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 3 जनवरी, गुरुवार को पंजाब के जालंधर स्थित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में 106वें भारतीय विज्ञान कांग्रेस-2019 का उद्घाटन किया। इस साल विज्ञान कांग्रेस की थीम भविष्य का भारत: विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी रखी गई है।

3 से 7 जनवरी तक चलने वाले इस कांग्रेस सम्मेलन में नोबेल पुरस्कार विजेताओं, विज्ञान के नीति निर्माताओं, प्रशासकों, विख्यात वैज्ञानिकों, भारत एवं विदेशों के युवा शोधकर्ताओं एवं स्कूली बच्चों सहित लगभग 30,000 प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं।

उद्घाटन समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय विज्ञान की शानदार उपलब्धियों की चर्चा करते हुए महान वैज्ञानिक सी वी रमन, जे सी बोस, मेघनाथ साहा और एस एन बोस को याद किया। उन्होंने कहा कि विज्ञान, प्रौद्योगिकी, तकनीक और अनुसंधान के जरिए भारत अपना भविष्य को सुरक्षित करने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है।

“Atal Behari Vajpayee Ji gave ‘Jai Jawan, Jai Kisan, Jai Vigyan’ slogan in recognition of scientists’ contribution towards science. Years after that he has added a new word to Vajpayee Ji created a slogan and it is: Jai Jawan, Jai Kisan, Jai Vigyan, Jai Anusandhan,” the Prime Minister said.

Talking about Atal Innovation Mission that his government has set up to promote innovation and entrepreneurship in the country, he said more startup incubators and other technical centres have been established in the last four years in comparison to last 40 years in India. However, he reminded scientists that they need to work hard to address the peoples’ demand for affordable healthcare, house, clean energy and others. He said while science is universal, technology is local for providing solutions to the local needs. The PM said similar to the ease of doing business, there is a need to create ease of living for 1.25 billion people in the country.

इस मौके पर उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने जय जवान जय किसान का नारा दिया था और पोखरण विस्फोट के बाद पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने जय जवान, जय किसान के साथ जय विज्ञान को जोड़ा था। अनुसंधान के महत्व को समझते हुए आज जय जवान, जय किसान और जय विज्ञान के साथ जय अनुसंधान को जोड़ने की जरूरत है।

Regarding agriculture, he said the country has made significant advancement in agriculture science, farm produce has also increased over the years, yet in consonance with New India, lot more has to be done in the agriculture sector. On cybersecurity, he asked can a system be created so that no one can harm cyberspace in the country? He said India needs a futuristic roadmap for its science and technology.

Earlier speaking at the science conclave as a guest of honour, Union Minister for Science & Technology, Earth Sciences, Environment, Forest and Climate Change, Dr Harsh Vardhan said the world is today acknowledging thriving traditions of Indian science and technology and its contributions in the field of mathematics, medicines, astronomy and others. He also paid obeisance to scientists like Har Govind Khorana, Birbal Sahani and Kalpana Chawla who had had links with Punjab, the state which hosted the 106th Indian Science Congress.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अटल इनोवेशन मिशन के जरिए उनकी सरकार देश में अनुसंधान और उद्यमिता को बढ़ावा दे रही है। पिछले चार साल में Startup Incubators और दूसरे Technical Centres स्थापित किए जा रहे हैं। वैज्ञानिकों को याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि Affordable Healthcare, House, Clean Energy के क्षेत्र में अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि विज्ञान यूनिवर्सल है लेकिन तकनीक के जरिए स्थानीय लोगों की समस्याओं के समाधान करने की जरूरत है। हमें ईज ऑफ डूइंग बिजनेस से ईज ऑफ लिविंग की दिशा में तेजी से काम करना होगा।

कृषि की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि आज जरूरत है कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी के जरिए किसानों की छोटी छोटी समस्याओं का समाधान निकाला जाए। पिछले सालों में फसल उत्पादन में वृद्धि हुई लेकिन अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है।

The Union Minister said India is among the first 10 countries in the world in all fields of science and technology. He said under the dynamic leadership of PM Shri Narendra Modi Ji, scientists and engineers who had earlier left India, are coming back to India and in that way, brain gain has replaced the brain drain of the past. He said the country has made a mark in the field of artificial intelligence, robotics. He said innovation is very close to PM Shri Narendra Modi Ji. He said though Israel is recognized for innovation and entrepreneurship, now people across the world talk about works being done in India in the field of innovation. He said from healthcare to water conservation to agriculture to medicines—India has made a noteworthy stride in all major fields of science.

Considered to be very important science congress of the world, as many as 30,000 delegates, which include Nobel Laureates, eminent scientists, academicians from Indian, American and British universities are participating in the five-day event in Punjab.

106वें भारतीय विज्ञान कांग्रेस में बतौर विशिष्ट अथिति लोगों को संबोधित करते हुए केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि मैथेमेटिक्स, मेडिसिन, स्पेस, एस्ट्रोनॉमी जैसे क्षेत्रों में भारत के योगदान को आज विश्वभर में सराहा जा रहा है। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री ने पंजाब से संबंध रखने वाले वैज्ञानिक हरगोविंद खुराना, बीरबल साहनी और कल्पना चावला जैसे वैज्ञानिकों की उपलब्धियों को भी याद किया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आज भारत की गिनती विश्व के टॉप 10 देशों में की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में भारत ने Artificial Intelligence और Robotics जैसे क्षेत्रों में कई उपलब्धियां हासिल की है। अनुसंधान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिल के काफी करीब है। विज्ञान,अनुसंधान और उद्यमी के क्षेत्र में इजरायल का नाम लिया जाता है लेकिन इन क्षेत्रों में भारत ने कई उपलब्धियां हासिल की है। स्वास्थ्य देखभाल से लेकर जल संरक्षण और कृषि के लेकर मेडिसिन के क्षेत्र में भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है। भारतीय विज्ञान कांग्रेस में लगभग 100 से अधिक सम्मेलनों का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें डीआरडीओ, इसरो, डीएसटी, एम्स, यूजीसी, एआईसीटीई एवं अमेरिका, ब्रिटेन, भारत एवं अन्य देशों के कई उत्कृष्ट विश्वविद्यालयों की विख्यात हस्तियां हिस्सा ले रही हैं।