मेडिकल के क्षेत्र में अहम् बदलाव लाने वाले The Indian Medical Council (Amendment) Bill-2019 आज राज्यसभा से भी पारित हो गया। बिल को केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज राज्यसभा में प्रस्तुत किया। चर्चा के बाद जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 2000 में पहली बार एमसीआई में भ्रष्टाचार के आरोप लगे जिसके बाद तत्कालीन सरकार ने एमसीआई को सुपरसीड करके Board of Governors बनाया।




उन्होंने कहा कि कुछ माननीय सदस्य सरकार की मंशा पर शंका जाहिर कर रहे हैं लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि 2014 में सरकार बनने के सवा महीने के अंदर प्रोफेसर रंजीत राय चौधरी जी की अध्यक्षता में ग्रुप ऑफ एक्सपर्ट को MCI की कार्यप्रणाली की जांच करने का जिम्मा सौंपा गया और इस मुद्दे पर सरकार की मंशा पारदर्शी है।



डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि Board of Governors ने बेहतरीन काम किए हैं और उनके कार्य में सरकार ने किसी तरह का कोई बाधा नहीं डालती है वो स्यवं अपने स्तर पर कार्य कर रहा है। सिर्फ एक साल में MBBS की सीटों में 25 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है जो MCI के इतिहास में रिकॉर्ड है। 2017-18 में MBBS की सीटों में 2340 की बढ़ोतरी हुई, 2018-19 में 2830 सीटें बढ़ीं जबकि 2019-20 में यह संख्या 14,863 पहुंच गई। पिछले दो सालों की तुलना में ज्यादा मेडिकल कॉलेज खोलने की अनुमति दी गई। 2017-18 में 14 कॉलेजों को अनुमति दी गई, 2018-19 में 21 और 2019-20 में ये बढ़कर 37 हो गई जिनमें सरकारी कॉलेजों की संख्या 25 है।

इसके अलावा Board of Governors ने कई सकारात्मक कदम उठाए। शिक्षकों की आपूर्ति और गुणवत्ता, सीटें बढ़ाने और इज ऑफ वर्किंग में अच्छे सुधार किए। अधिकतर राज्यों के सरकारी कॉलेजों के यूजी कोर्स में BOG ने ईडब्ल्यूएस कोटे को लागू किया। Board of Governors ने 74 नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना हेतु दिए गए आवेदनों में से 37 को अनुमति दी और इसी प्रकार 86 प्रतिशत कॉलेजों को रिन्यूवल मिला जो पहले 54 प्रतिशत था।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि National Medical Commission Bill को भी जल्द से जल्द पारित कराने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खुद इस बिल को सदन से पास कराने के पक्ष हैं क्योंकि प्रधानमंत्री सिस्टम में शुचिता को स्थापित करना चाहते हैं। राज्यसभा में बिल पर चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि राजनीति अपनी जगह है, पार्टी अपनी जगह है, चुनाव अपनी जगह है लेकिन आप सरकार की मंशा पर बिल्कुल संदेह मत करिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ह्रदय, मन और आत्मा से नया भारत बनाना चाहते हैं और आप सभी लोग सहयोग कीजिए।