DST supported three projects launched in Chennai


चेन्नई में प्रौद्योगिकी मिशन केंद्रों का उद्घाटन



Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan today launched DST supported three projects at IIT Madras in Chennai. These projects are: Solar Energy Harnessing Centre; Centre for Sustainable Treatment, Reuse and Management for Efficient, Affordable and Synergistic solutions for Water; Test bed on Solar Thermal Desalination solutions. These centres have been set up at a collective investment of Rs 50 crore.



Chennai, 25 January 2019: Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Forest, Environment and Climate Change Dr Harsh Vardhan today launched DST supported three projects at IIT Madras in Chennai. These projects are: Solar Energy Harnessing Centre; Centre for Sustainable Treatment, Reuse and Management for Efficient, Affordable and Synergistic solutions for Water; Test bed on Solar Thermal Desalination solutions. These centres have been set up at a collective investment of Rs 50 crore.

चेन्नई, 25 जनवरी 2019 : केंद्रीय विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने शुक्रवार को विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा आईआईटी मद्रास में स्थापित किए गए तीन प्रौद्योगिकी मिशन केंद्रों का उद्घाटन किया। 50 रुपए के कुल निवेश से स्थापित किए ये केंद्र देश में मौजूदा तथा आगे वाली वाली जल और ऊर्जा से संबंधित चुनौतियों का सामना करने के लिए अत्याधुनिक प्रेरित न्वोन्मेषी प्रौद्योगिकीय समाधानों को उपलब्ध कराने के लिए मिशन मोड में काम करेंगे।

Speaking on the occasion, he said India under the leadership of PM Shri Narendra Modi is committed to harness science and technology for the benefit of society. He said development and application of advanced tools and techniques by leading institutions of the country is of utmost importance to address the critical scientific challenges involved.

इस मौके पर बोलते हुए केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वैज्ञानिक संस्थाओं की असाधारण क्षमता का प्रयोग करके सामाजिक चुनौतियों का समाधान प्राप्त करने पर बल दिया गया है।

In this regard, IIT Madras developed solar energy harnessing centre serves as a good example. It is first of its kind which encompasses entire domain of research on solar energy. On this occasion, the Union Minister appealed to scientists and technocrats to aspire for a break through in their work so that India could position itself at the frontiers of global innovations.

उन्होंने कहा कि देश के अग्रणी संस्थाओं द्वारा जल और उर्जा के क्षत्रे में उन्नत उपकरणों एवं तकनीकों को विकसित करना, उनके प्रयोग में अंतर्निहित महत्वपूर्ण वैज्ञानिक चुनौतियों का समाधान करने के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है। मौजूदा प्रयास इस दिशा में उठाया गया ऐसा ही एक कदम है। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री ने वैज्ञानिकों के कार्यों की प्रशंसा की।

He also talked about the need of waste water management to avoid contamination of emerging pollutants like pharmaceuticals and personal care products into water sources. He said the Centre has set up seven water innovation centres across the country in the last year in order to conduct networked research on pressing water issue.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हमारे जल स्रोतों को औषधीय एवं पर्सनल केयर उत्पादों के कारण हो रहे प्रदूषण से बचाने के लिए उपयुक्त अपशिष्ट जल प्रबंधन की दिशा में कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि पिछले साल केंद्र सरकार ने इस तरह के सात केंद्र स्थापित किए हैं ताकि जल के मुद्दे पर शोध किया जा सके।

He also stressed for the need of cost-effective renewable energy powered desalination technologies to address the water scarcity in the coastal areas of the country. On this occasion, the Union Minister called on scientists to maintain coordination in their research work in such a way that if one is conducting some research using microscope, he should know who else is undertaking similar kind of research. He said what he usually stumbles upon in the course of his visit to numerous scientific institutes is that a similar kind of research work is undertaken by scientists at several institutions in India. It should be avoided. On this occasion, the Union Minister also felicitated several scientists and presented mementos to others.

केंद्रीय मंत्री ने देश के तटीय क्षेत्रों में पानी की कमी को दूर करने के लिए लागत प्रभावी नवीकरणीय ऊर्जा संचालित विलवणीकरण प्रौद्योगिकियों की आवश्यकता पर भी जोर दिया। साथ ही उन्होंने वैज्ञानिकों से अपने शोध कार्य में समन्वय बनाए रखने का भी आह्वान किया ताकि लोगों को पता होना चाहिए कि कौन और किस तरह के अनुसंधान पर कार्य कर रहा है। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री ने कई वैज्ञानिकों को सम्मानित करने के साथ कई लोगों को स्मृति चिन्ह भेंट किए।