12 अक्टूबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने मैसूर दौरे के पहले दिन सीएसआईआर-केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान, में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बताया कि इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल (IISF) 2019 का आयोजन 5 से 8 नवंबर तक कोलकाता में होगा। उन्होंने कहा कि IISF 2019 के लिए इस बार कोलकाता और नवंबर का महीना इसलिए चुना गया है क्योंकि इसी महीने में प्रसिद्ध वैज्ञानिक सर सीवी रमन और जगदीश चंद्र बोस का जन्मदिन है । 7 नवंबर को डॉ रमन का व 30 नवंबर को डॉ बोस का जन्मदिन है। दोनों का कोलकाता से विशेष लगाव था। वैसे भी कोलकाता हमेशा से वैज्ञानिकों का शहर रहा है।



उन्होंने बताया कि इस साइंस फेस्टिवल में देश विदेश के 12,000 प्रतिभागी शामिल होंगे। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि Science को Laboratory से बाहर निकालना जरुरी है, ताकि वहां होने वाले रिसर्च का लाभ लोगों को मिल सके। IISF 2019 में इस बार 28 विभिन्न आयोजन होंगे जिसमें Agricultural Scientists Meet और दिव्यांगजनों के लिए एक्सपो प्रमुख हैं। इस बार IISF 2019 का थीम RISEN India यानि Research, Innovation, and Science Empowering the Nation है। इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल में साइंस टीचर्स कांग्रेस मीट, सोशल ऑर्गनाइजेशन एंड इंस्टीट्यूशंस मीट और स्टार्टअप जैसे विषयों पर विशेष फोकस रहेगा।

डॉ हर्ष वर्धन ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नए भारत के सपने को साकार करने के लिए सभी को मिलकर काम करने की आवश्यकतापर बल दिया है ताकि भारत विज्ञान के क्षेत्र में अपनी विशेष पहचान बना सके। सरकार विज्ञान को प्रयोगशाला से निकालकर आम लोगों को बीच ले जा रही है जिसका उद्देश्य विज्ञान को जनांदोलन बनाना और उसे प्रयोगशालाओं से निकालकर जनता के बीच ले जाना है। इसी दिशा में सरकार काम कर रही है। इस महोत्सव का मकसद विद्यार्थियों में विज्ञान के प्रति रुचि पैदा करना है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय और भारत सरकार के विभागों द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित इस वार्षिक कार्यक्रम की विशेषताओं पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि 2015 से शुरु हुए इस फेस्टिवल का यह पांचवा संस्करण है। IISF छात्रों, शोधकर्ताओं को एक साथ लाने के लिए देश का सबसे बड़ा मंच है । IISF विज्ञान और प्रौद्योगिकी में भारत की उपलब्धियों का जश्न मनाने का एक मंच भी है । इस फेस्टिवल का उद्देश्य विज्ञान के क्षेत्र के प्रति युवा मन को प्रोत्साहित करने के साथ -साथ विज्ञान के प्रचार की दिशा में काम करना भी है।