वानिकी अनुसंधान में ICFRE का अहम योगदान : डॉ हर्ष वर्धन


द्रीय पर्यवारण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्षवर्धन नेसोमवार को Indian Council of Forestry Research and Education सोसायटी की 25वीं आम वार्षिक बैठक में भाग लिया।



नई दिल्ली (नवंबर 19, 2018): केंद्रीय पर्यवारण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने सोमवार को Indian Council of Forestry Research and Education सोसायटी की 25वीं आम वार्षिक बैठक में भाग लिया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ICFRE देश के सबसे पुराने और प्रमुख अनुसंधान संगठनों में से एक है, जिसका वानिकी अनुसंधान की दिशा में काफी योगदान है। उन्होंने कहा कि ICFRE उद्योगों की मांगों को पूरा करने के साथ-साथ किसानों की आय में वृद्धि के लिए कृषि वानिकी में वृक्षों की प्रजातियों की उच्च पैदावार वाली किस्मों के लगातार नए अनुसंधान का काम कर रहा है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा मुझे आशा है कि ICFRE अपने प्रयासों से उन सभी उद्देश्यों को प्राप्त करेगा जो आम लोगों की मदद करने में सहायक होंगे।

ICFRE ने हाल ही में आईसीएआर, केंद्रीय विद्यालय संगठन और नवोदय विद्याल संगठन जैसे संस्थानों के साथ एमओयू पर भी हस्तारक्षर किया है।