नई दिल्ली,2 मार्च, 2020: केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज नई दिल्ली के निर्माण भवन परिसर में Health,Wellness & Nutrition Camp for Women' कैंप का शुभारंभ किया। देश में 1-8 मार्च तक मनाए जा रहे अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अभियान के तहत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार द्वारा इस कैंप का आयोजन किया गया। इस अवसर पर केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी जी तथा स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे जी की भी उपस्थिति रही। इनके अलावा स्वास्थ्य सचिव श्रीमती प्रीति सुदान भी इस अवसर पर मौजूद थीं।



इस अवसर पर डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि परिवार, समुदाय और राष्ट्र को स्वस्थ व विकसित बनाने के लिए उन्हें सशक्त बनाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि किसी भी स्वस्थ और सुढृढ़ राष्ट्र की कल्पना तभी की जा सकती है जब उस राष्ट्र के नौनिहाल शारीरिक रूप से पूरी तरह सक्षम होने के साथ-साथ मानसिक रूप से भी भली-भांति स्वस्थ हों। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि ऐसा तभी संभव हो सकता है जब उन नवजात शिशुओं को जनने वाली प्रत्येक मां भी हर तरह स्वस्थ और सशक्त होगी।

उन्होंने कहा कि 25 वर्ष पहले भी मातृ सुरक्षा को लेकर कैम्प लगाये जाते थे और दिल्ली में हर महीने की 10 तारीख को करीब 600 स्थानों पर इस प्रकार के कैम्पों का आयोजन होता था, जिनमें 30 हजार से लेकर 50 हजार तक गर्भवती महिलों को इलाज का लाभ मिलता था।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि पीएम श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में महिला सशक्तिकरण की दिशा में अनेक कदम उठाए गए हैं और अब हमारी कोशिश है कि प्रसव के दौरान किसी मां या उसके शिशु की मृत्यु न हो। मैंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार आने के बाद देश में मातृ मृत्यु दर में कमी आई है। तमिलनाडु में मातृ मृत्यु दर गिरकर 70 और महाराष्ट्र में 60-70 तक पहुंच गई है।

उन्होंने कहा कि सभी सरकारी कार्यालयों में इसी प्रकार के और भी कैंप लगाये जाने चाहिए, ताकि पीएम श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा शुरू किए गए इस पखवाड़े का महिलाएं भरपूर लाभ उठा सकें, क्यूंकि पोषण अभियान भी 8 तारीख के बाद शुरू हो रहा है। डॉ हर्ष वर्धन ने गर्भवती महिलाओं में खून की कमी की चर्चा करते हुए बताया कि आज भी देश में 50 प्रतिशत गर्भवती महिलाएं एनीमिया से पीड़ित हैं, जो कि बेहद चिंताजनक है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी का सपना है कि देश में सिर्फ़ मानवतावाद का धर्म प्रचारित हो और उनके इस सपने को पूरा करने के लिए हमें भी अपनी पूरी ताकत लगा देनी चाहिए।