18 नवम्बर 2019 - केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन और माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स की मीटिंग आज नई दिल्ली स्थित स्वास्थ्य मंत्रालय में हुयी। केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ भारत सरकार विशेषकर स्वास्थ्य मंत्रालय पहले से ही बहुत सारे विषयों पर मिलकर काम कर रहा है तथा और कुछ कामों को भी करने की योजना है| इसी सन्दर्भ में मंत्रालय ने बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ औपचारिक MOU साइन किया।



केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मीटिंग में विशेष बीमारियों के सन्दर्भ में चल रहे प्रोग्रामों के विषय पर चर्चा हुई। बिहार और उत्तर प्रदेश के जिलों में जो काम हो रहे हैं उन पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में आयुष्मान भारत योजना में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स पर हम उनके साथ मिलकर काम करना चाहते हैं। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि उन्होंने बिल गेट्स को सुझाव दिया है कि भारत इस समय नेशनल डिजिटल हेल्थ मॉडल को पूरी दुनिया में लीड कर रहा है और 30 देशों ने हमारे नेतृत्व में इस मुहीम में शामिल होने का आश्वासन भी दिया है। WHO ने नेशनल डिजिटल हेल्थ मॉडल के लिए अलग से एक सेल खोल दिया है।

केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि हम चाहते हैं कि बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन 'नेशनल डिजिटल हेल्थ मॉडल' में भी सक्रिय रूप से शामिल हो। उन्होंने कहा कि बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स का दुनिया को पोलियो मुक्त करने की मुहीम में अहम् योगदान है| केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने मीडिया को बताया कि काफी सारे विषयों को MoU में लिखा है और उन सब पर मिल जुलकर हम लोग काम करेंगे।