04 दिसंबर 2019: पूर्व प्रधानमंत्री श्री इंद्र कुमार गुजराल जी की 100वीं जयंती के अवसर पर आज दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में एक स्मृति सभा का आयोजन किया गया। सभा में राजनीति के कई दिग्गजों ने पूर्व प्रधानमंत्री गुजराल जी को श्रद्धांजलि अर्पित की। पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी, पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्षवर्धन के अलावा विदेश मंत्री एस जयशंकर, सांसद करण सिंह , सीपीएम नेता सीता राम येचुरी उपस्थित थे।



कार्यक्रम में उपस्थित सभी गणमान्य नागरिकों ने गुजराल जी से जुड़े अपने अनुभव साझा किये। कार्यक्रम में वक्ताओं ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री इंद्र कुमार गुजराल जी की "Gujral Doctrine of India" पर विशेष चर्चा की जो देश की विदेश नीति में मील का पत्थर माना जाता है। वक्ताओं ने उनकी स्वच्छ छवि, स्पष्ट नीति व उनके जुझारूपन से जुड़े अपने अनुभव भी साझा किये। अपने संबोधन में पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने गुजराल को एक बौद्धिक दिग्गज और एक विद्वान प्रधानमंत्री के रूप में वर्णित किया। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने गुजराल जी से अपना मजबूत रिश्ता बताया। उन्होंने कहा कि हम दोनों पाकिस्तान के एक ही जिले से आए थे और उन्होंने मुझे अपनी साझी विरासत की याद दिलाई। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि वह उस समय सीखे गए जीवन पाठों के लिए गुजराल के आभारी थे, जब वो मॉस्को में राजनयिक थे और गुजराल साहब यूएसएसआर में भारत के राजदूत थे।

इस दौरान केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने पोलियो उन्मूलन अभियान में पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के सहयोग को याद किया। उन्होंने कहा कि गुजराल साहब ने जिस तरह इस अभियान में मेरा साथ दिया और मुझे इसके लिए प्रेरित किया वो हमेशा मेंरी स्मृतियों में है। उन्होंने कहा कि मैं आज भी उन दिनों को याद करता हूं तो भावुक हो जाता हूं जब पोलियो मुक्त अभियान के अनुभवों पर मेरी द्वारा लिखी गई पुस्तक 'दो बूंदों की कहानी' के विमोचन के मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने मुझे 'स्वास्थ्य वर्धन' कह कर अलंकृत किया था। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री श्री इंद्र कुमार गुजराल जी द्वारा कहे गए शब्द "भारत में यदि किसी एक स्वास्थ्य मंत्री को मुझे असाधारण उपलब्धियों के लिए चुनना हो तो मेरी पहली पसंद डॉ हर्ष वर्धन होंगे।" मेरे लिए एक आशीर्वाद से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि पल्स पोलियो अभियान में गुजराल साहब का योगदान हमेशा मेरी यादों में है।