14अक्टूबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) के सदस्यों का पर्ची डाल कर चुनाव करने संबंधी प्रक्रिया की अध्यक्षता की। इस अवसर पर स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे और मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।



सदस्यों के चयन पर प्रेस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि एनएमसी के 4 स्वायत्त बोर्ड में राज्य चिकित्सा परिषद से एक-एक सदस्य को चुनने की प्रक्रिया आज लॉटरी के जरिए पूरी कर ली गई है। SMC से Search Committee के लिए एक विशेषज्ञ को भी आज चुन लिया गया। NMC के कुल 33 में से 25 सदस्यों का चयन हो चुका है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि हमारे दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली एनडीए सरकार द्वारा चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में लाया गया यह ऐतिहासिक सुधार है जो आने वाले वर्षों में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि वायदे के अनुसार इसके सदस्यों के चयन की प्रक्रिया समयबद्ध रूप से पूरी की जा रही है। उन्होंने कहा एनएमसी के सदस्यों का चयन करने के लिए हमारे पास 9 महीने का समय था और मात्र 2 महीने की अल्पावधि में ही हमने नियमों का निर्धारण कर एनएमसी के सदस्यों का चयन भी कर लिया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इसमें अलग-अलग पृष्ठभूमि के सदस्यों को शामिल किया गया है। राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग अधिनियम 2019 को 8 अगस्त, 2019 को राष्ट्रपति से मंजूरी मिली थी और उसी दिन इसे आधिकारिक राजपत्र में प्रकाशित किया गया। केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग अधिनियम, 2019 के तहत चिकित्‍सा सलाहकार परिषद के गठन के लिए राज्यों, संघ शासित प्रदेशों और राज्य चिकित्सा परिषदों से नामांकन मांगे थे।