01 दिसम्बर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज वर्ल्ड एड्स डे के मौके पर National AIDS Control Organisation द्वारा आयोजित कार्यक्रम व प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। कार्यक्रम में भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि Dr Henk Bekedam व UNAIDS के Country Director Dr Bilali Camara जी मौजूद थे।



केंद्रीय मंत्री ने कार्यक्रम में NACO द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया और विभिन्न स्टालों पर जाकर प्रदर्शित की गई चीजों के संबंध में जानकारी ली। प्रदर्शनी में उनके साथ स्वास्थ्य मंत्रालय व स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े हुए अन्य अधिकारी भी मौजूद थे। इस मौके पर उन्होंने NACO द्वारा विकसित एक मोबाइल ऐप व कैलेंडर लांच किया तथा एड्स के प्रति समाज में जागरूकता लाने के लिए नवीन प्रचार सामग्री, Comprehensive Module for Private Practitioners on Management of HIV/AIDS, 2019 जारी किया व 'संपर्क बना संबंध' पुस्तिका का विमोचन भी किया।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि आज एचआईवी व एड्स से पीड़ित लोगों के लिए HIV Community जैसा शब्द इस्तेमाल किया जाता है और मुझे नहीं लगता है कि इन्हें किसी Community की तरह ट्रीट करना चाहिए। ये हमारे जैसे ही हैं और इनके साथ भेदभाव उचित नहीं। उन्होंने कहा कि हमें एचआईवी व एड्स को समय पर खत्म करने के लक्ष्य को प्राप्त करने के साथ-साथ इसके संदर्भ में समाज की सोच को भी बदलने की जरूरत है।

डॉ साहब ने कहा कि मैंने निर्णय किया है कि इस महीने में आने वाले अपने जन्मदिन के मौके पर एचआईवी एड्स से पीड़ित बच्चों के साथ समय बिताऊंगा और भोजन करूंगा ताकि इस बीमारी के प्रति लोगों में फैली भ्रांतियों को दूर करने में मदद मिल सके।

उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि रक्तदान करने से शरीर को किसी तरह से कोई परेशानी नहीं होती है। हमें नियमित तौर पर रक्तदान की आदत विकसित करनी चाहिए क्योंकि इससे बड़ी मानवता की सेवा कोई और नहीं हो सकती। जब हम चेचक और पोलियो जैसी बड़ी बीमारी को जड़ से ख़त्म कर सकते हैं तो मुझे पूरा विश्वास है कि एचआईवी व एड्स जैसी बीमारी पर भी जागरूकता फैलाकर हम अपने लक्ष्य को समय से पहले प्राप्त कर सकते हैं।