1-जनवरी-2020: आज दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने डीडी नेशनल चैनल के कार्यक्रम "न्यू संकल्प इंडिया" में आज PM श्री नरेंद्र मोदी जी की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना के संकल्पों व उपलब्धियों पर विस्तार से चर्चा करी। उन्होंने कहा कि यह एक क्रांतिकारी योजना है,जिस पर पूरी दुनिया की नजर है।



कार्यक्रम में डॉ हर्ष वर्धन ने बताया कि देश की स्वास्थ्य नीति का आधार केवल शारीरिक रूप से किसी भी बीमारी से मुक्त होना नहीं है, बल्कि एक व्यक्ति के समग्र विकास से जुड़ा है। इसमें मानसिक व भावनात्मक रूप से मजबूत होना और आध्यात्मिक रूप से जागृत होना शामिल है।

उन्होंने कहा कि हमें अपने दिमाग से 'असंभव' शब्द को निकाल देना चाहिए । डॉ हर्ष वर्धन ने अपने 1993 में शुरू किए गए पोलियो अभियान की सफलता के बारे में बताते हुए कहा कि इससे साफ है कि अगर कोई सरकार विज़न, दृढ़संकल्प और इच्छाशक्ति के साथ काम करे तो कुछ भी असंभव नहीं है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत का लाभ बिना किसी धार्मिक या सामाजिक भेदभाव के सभी जरूरतमंदो को मिल रहा है। आयुष्मान भारत से लाभान्वित ऐसे मुस्लिम परिवार भी देखे हैं, जिनके लिए मोदी जी किसी मसीहा से कम नही हैं।

उन्होंने बताया वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 36% लोग इलाज कराते-कराते गरीबी रेखा के नीचे चले जाते हैं। ऐसे में गौर करने वाली बात यह है कि आयुष्मान भारत के जरिए हम देश की 40% आबादी को गरीबी रेखा से नीचे जाने से बचा रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने देशवासियों से अपील करी कि आप अपने स्वास्थ्य के बारे में भी सोचना शुरू कीजिए। खुद को स्वस्थ रखना कोई Rocket Science नहीं है। इसके लिए थोड़ी Physical activity जरूरी है। इसके साथ ही स्वस्थ खान-पान व स्वच्छता भी जरूरी है।

चैनल पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि PM श्री नरेंद्र मोदी जी बड़े सपने और इच्छाशक्ति के साथ बड़ी योजनाओं को लेकर नया भारत बनाने जा रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि योजना बनाने के बाद वो व्यक्तिगत रूप से उसके क्रियान्वयन के हर कदम को मॉनिटर करते हैं।