14 August 2019: Union Health & Family Welfare, Science &Technology and Earth Sciences Minister Dr. Harsh Vardhan inaugurated ‘Closed Doors, Open Windows’ autobiography of a renowned neurosurgeon Prof. PN Tandon. During the function, he said that the story of his dreams, struggle and achievement are penned wonderfully and it is inspirational for all.



14 अगस्त 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान व प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज प्रख्यात न्यूरोसर्जन प्रो पी एन टंडन की आत्मकथा 'Closed Doors, Open Windows' का विमोचन किया। इस मौके पर डॉहर्ष वर्धन ने कहा कि इस पुस्तक में प्रो टंडन के सपनों की उड़ान, उनके जीवन संघर्ष व लक्ष्यों को प्राप्त करने की उनकी गाथा को जिस तरह से शब्दों में पिरोया गया है वह सभी के लिए प्रेरणादायक है।



Dr. Vardhan said that he was fortunate to inaugurate the book of Prof. PN Tandon, who is nationally acclaimed neurosurgeon. He said that the whole life of Prof. Tandon has been dedicated to development of neurosurgery and science. His book would motivate neurosurgeons, doctors and scientists in future. This book reminds us that if any work is done with honesty and dedication, then impossible can be possible.

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि मुझे देश के जाने माने न्यूरोसर्जन प्रो पी एन टंडन जी की पुस्तक का विमोचन करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। उन्होंने कहा कि प्रो पी एन टंडन की पूरी जिन्दगी न्यूरोसर्जरी और विज्ञान केविकास के लिए समर्पित रही है। उनका जीवन और ये किताब आने वाले समय में न्यूरोसर्जन व अन्य डाक्टरों व वैज्ञानिकों को प्रेरणा देगी। उन्होंने कहा कि प्रो टंडन का जीवन हमको बताता है कि अगर कार्य में निष्ठा व ईमानदारी हो तो हर असंभवको संभव बनाया जा सकता है।

Union minister said that this book would be proved eminent in the field of neurosurgery in near future. It would certainly help in the AIIMS Neuro Science Centers and researches. The people would always remember Prof. PN Tandon, whenever neurosurgery would be discussed in the country.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ये पुस्तक आने वाले समय में न्यूरोसर्जरी के क्षेत्र में बेहद उपयोगी साबित होगी व AIIMS के न्यूरोसाइंस सेंटर्स व रिसर्च में भी यह अहम योगदान देगी। जब भी देश में न्यूरोसर्जरी की बात होगी तो लोग प्रो पी एन टंडन कानाम हमेशा याद करेंगे।