06 जनवरी 2020: आज केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने अपने संसदीय क्षेत्र चाँदनी चौक के वजीरपुर इलाके की जे जे कॉलोनी में घर-घर जाकर लोगों से मिले और उन्हें नागरिकता संशोधन बिल यानी CAA के बारे में सही जानकारी दी| वे हर वर्ग और पेशे के लोगों के घर और दुकान में गए और उन्हें बताया कि इस कानून के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में प्रताड़ित अल्पसंख्यक हिन्दू, जैन, बौद्ध, सिख, पारसी और ईसाई धर्मावलंबियों को भारत की नागरिकता दिये जाने का प्रावधान है। इसके अलावा देश के वर्तमान नागरिकों का इस कानून से कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि हाल ही में सबने देखा कि पाकिस्तान में ननकाना साहेब गुरुद्वारे पर अपने सिख भाइयों के साथ किस प्रकार बदसलूकी की गई। इसीलिए यह कानून बनाना आवश्यक हो गया था। महात्मा गांधी ने आजादी के समय कहा था कि जो भी लोग पाकिस्तान में सताए जाएंगे वे भारत आ सकते हैं लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि



डॉ हर्ष वर्धन ने CAA के विरोध के पीछे कांग्रेस सहित सभी विपक्षी दलों को जिम्मेदार ठहराया है। विपक्ष द्वारा दिल्ली पुलिस को बदनाम करने का प्रयास हो या प्रदर्शनकारियों के परिजनों से जाकर मिलने की बात हो या फिर प्रदर्शनकारियों की सहायता की बात हो इससे तो यही सिद्ध होता है कि विपक्ष इन घटनाओं में राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में उबरने का यह एक अवसर देख रहा है और लोगों को हरसम्भव तरीके से गुमराह कर रहा है।

इस मौके पर पार्टी के सभी स्थानीय वरिष्ठ पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे और पूरे उत्साह से अपने नेता का साथ देते रहे और सभी लोगों को इस कानून की जानकारी से युक्त पर्चे बाँटते रहे|