नई दिल्ली, 14-05-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) का दौरा किया और COBAS 6800 परीक्षण मशीन राष्ट्र को समर्पित की। यह पहली ऐसी परीक्षण मशीन है जो सरकार द्वारा कोविड19 मामलों के परीक्षण के लिए खरीदी गई है और राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र में स्थापित है।



केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने नियंत्रण कक्ष और परीक्षण प्रयोगशालाओं का भी दौरा किया और एनसीडीसी, निदेशक डॉ एस के सिंह और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कोविड19 परीक्षण की वर्तमान स्थिति की समीक्षा की।

डॉ हर्षवर्धन ने परीक्षण क्षमता को बढ़ाने के लिए उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हमने अब प्रति दिन 1,00,000 परीक्षण करने की क्षमता विकसित कर ली है जो आज एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

देश में 359 सरकारी प्रयोगशालाओं और 145 निजी प्रयोगशालाओं सहित 500 से अधिक प्रयोगशालाओं में कोविड19 के लिए लगभग 20 लाख परीक्षणों का परीक्षण किया जा चुका है। उन्होंने आगे कहा कि COBAS 6800 स्वचालित अत्याधुनिक मशीन है। जो 24 घंटे में 1200 नमूनों का उच्च गुणवत्ता वाला परीक्षण करेगी ।

डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि COBAS 6800 रोबोटिक्स के साथ सक्षम एक परिष्कृत मशीन है जो स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को संक्रमण के जोखिम को कम करती है। COBAS 6800 अन्य रोगजनकों जैसे वायरल हेपेटाइटिस बी एंड सी, एचआईवी, एमटीबी (दोनों रिफैम्पिसिन और आइसोनियाज़ाइड प्रतिरोध), पैपिलोमा, सीएमवी, क्लैमाइडिया, नेएसेरेमिया आदि का पता लगा सकता है।

महामारी की शुरुआत के बाद से हर रोज प्रदान की जा रही नि:स्वार्थ सेवाओं के लिए अपनी गहरी कृतज्ञता व्यक्त करते हुए, डॉ हर्षवर्धन ने कहा, “मैं पैथोलॉजिस्ट, लैब तकनीशियन, वैज्ञानिकों और अन्य कर्मचारियों को सलाम करता हूं जो हमारे कोरोना वॉरियर्स’ हैं और जबरदस्त जोखिम वाली परिस्थितियों में काम कर रहे हैं ”

उन्होंने सभी निगरानी अधिकारियों के समर्पण, कड़ी मेहनत और ईमानदारी की भी सराहना की और उन्हें नए सिरे से लड़ाई जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने सामुदायिक निगरानी और संपर्क ट्रेसिंग की गुणवत्ता और मजबूती पर जोर दिया।

डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि यह एक खुशी की बात है कि आज, पिछले तीन दिनों के दोहरीकरण की दर 13.9 दिनों तक आ गई है, जबकि पिछले 14 दिनों में दोहरीकरण का समय 11.1 था। उन्होंने आगे कहा कि मृत्यु दर 3.2% है और रिकवरी दर सुधर कर 33.6% हो गई है। उन्होंने यह भी कहा कि आईसीयू में 3.0% सक्रिय मरीज हैं, वेंटिलेटर पर 0.39% और ऑक्सीजन पर 2.7% मरीज हैं।

14 मई 2020 तक, देश में कोविड19 कुल 78,003 मामले सामने आए हैं, जिसमें से 26,235 व्यक्ति ठीक हुए हैं।