19 दिसंबर 2019: केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज कहा है कि सीजीएचएस सेवाओं का विस्‍तार अब 100 शहरों में किया जाएगा। डॉ हर्ष वर्धन ने पश्चिम दिल्‍ली के सांसद प्रवेश वर्मा की उपस्थिति में विकासपुरी, नई दिल्‍ली में सीजीएचएस की एक नई डिस्‍पेंसरी का उद्घाटन करते हुए यह बात कही। केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि वर्तमान में यह योजना 329 एलोपैथिक स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों और 86 आयुष केन्‍द्रों के जरिए 72 शहरों में चल रही है। इस सेवा का 12.09 लाख प्राथमिक कार्डधारक और 35.72 लाख लाभार्थी लाभ उठाते हैं, जिनमें से 17 लाख लाभार्थी दिल्‍ली-एनसीआर के 2.5 लाख से अधिक लाभार्थी 75 वर्ष और उससे अधिक उम्र के हैं। करीब 58 प्रतिशत सीजीएचएस लाभार्थी एक वर्ष में कम से कम एक बार सीजीएचएस सुविधाओं का लाभ उठाते है।



डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि 2014 के बाद से, बेहद कम समय में सीजीएचएस डिस्पेंसरियों का विस्तार देश के 72 शहरों तक किया जा चुका है। जल्द ही यह सेवा 100 शहरों में उपलब्ध हो सकेगी। उन्होंने कहा कि यह स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र में सरकार की प्रतिबद्धता की झलक है कि एम्‍स की संख्‍या अब बढ़कर 21 हो गई हैं जबकि 157 मेडिकल कॉलेज का कार्य प्रगति पर है। उन्‍होंने कहा कि ये दु:खद है कि दिल्ली में इस समय एक ऐसी सरकार है जो जनता के हित का ढिंढोरा तो पीटती है, लेकिन वास्तव में जनता की हितैषी नहीं है। दिल्ली में आयुष्मान भारत योजना लागू नहीं होने के कारण लाखों लोगों को नुकसान हो रहा है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रतिबद्ध हैं और इस दिशा में सरकार ने कई कदम उठाए हैं। हमने ई-सिगरेट को देश में बैन कर दिया है। साथ ही जब दुनिया 2030 तक टीबी को खत्म करने की बात कह रही है, तब हमने इसके लिए 2025 का लक्ष्य रखा है। सरकार ने लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए Fit India Movement की तरह Eat Right India अभियान चलाया है, जिसके तहत लोगों को सही खान-पान के प्रति जागरूक किया जाता है। मैंने लोगों को बताया कि हमारे ऋषि-मुनी 'अल्प भुक्तम, बहु भुक्तम' की बात करते थे, अर्थात जो थोड़ा खाता है, वह लंबे समय तक खाता है अर्थात् लंबी आयु पाता है।