India ranks among first five countries in biodiversity in the world: Dr Harsh Vardhan


जैविक विविधता पृथ्वी पर सभी जीवन की बुनियाद : डॉ हर्ष वर्धन



राजधानी दिल्ली स्थित पर्यावरण भवन में शनिवार को केंद्रीय विज्ञान व प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान और पर्यारवण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने राज्य जैव विविधता बोर्ड की 13वीं राष्ट्रीय बैठक को संबोधित किया।



राजधानी दिल्ली स्थित पर्यावरण भवन में शनिवार को केंद्रीयविज्ञान व प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान औरपर्यारवण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने राज्य जैव विविधता बोर्ड की 13वींराष्ट्रीय बैठक को संबोधित किया। डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि जैविक विविधता पृथ्वीपर सभी जीवन की बुनियाद है। जैव विविधताऔर पारिस्थितिक तंत्र सेवाएं हमारी आर्थिकप्रगति और हमारी सभ्यता के विकास को मजबूतकरती है। मुझे यह जानकार खुशी है किNational BiodiversityAuthority, 2013 सेनियमित रूप से इस सम्मलेन का आयोजन कररहा है।

29 December 2018: Union Minister for Science and Technology, Earth Sciences, Environment, Forest and Climate Change Dr Harsh Vardhan today said that biodiversity forms the basis for human existence. The Union Minister said this while addressing the 13th national meet of the State Biodiversity Board of the National Biodiversity Authority (NBA) in New Delhi. Dr Harsh Vardhan expressed his happiness that the NBA is conducting annual summit on a regular basis since 2013.

उन्होंने कहा कि भारत, जैव विविधता संरक्षण केक्षेत्र में दुनिया के 17 मेगा विविधता वाले देशों ( 48,000 से अधिक पौध प्रजातियों और1,00,000 से अधिक पशु प्रजातियों के साथ) मेंसे एक महत्वपूर्ण हितधारक और पथ प्रदर्शक है।भारत में संरक्षण एक परंपरा रही है। भारत मेंदुनिया के भूमि क्षेत्र का केवल 2.4 फीसदी हैलेकिन दुनिया की 7% प्रजातियां भारतमें है। विकासात्मक दवाबों के दृष्टिकोण से यहविशाल जैविक एक प्रशंसनीय उपलब्धि है।

He said in the field of biodiversity, India is among the first five countries in the world, the first in Asia and the first among the biodiversity-rich mega diverse countries (more than 48,000 plant species and over1,00,000 animal species) to have submitted sixth National Report (NR6) to the convention of Biological Diversity. There are as many as 7 to 8 per cent animal species are found in India.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत सरकार ने जैवविविधता के संरक्षण और सुरक्षा के लिएप्रशंसनीय प्रयास किए हैं। इसने हमें ऐसे कानूनऔर संस्थान दिए हैं जो संरक्षण के कार्य के लिएअनिवार्य है। जैव विविधता अधिनियम और चेन्नईमें राष्ट्रीय जैव विविधता प्राधिकरण का गठन इसदिशा में महत्वपूर्ण प्रयास है। इसके अलावा देशके प्रत्येक राज्य में एक कार्यात्मक राज्य जैवविविधता बोर्ड है।

The Union Minister expressed his happiness over India’s achievement in the field of biodiversity conservation. “I am also happy to note that India is on track to achieve the biodiversity targets at the national level and it is also contributing significantly towards achievement of the global biodiversity targets," Dr Harsh Vardhan said.

मुझे यह जानकर गर्व है कि तीन रियो सम्मेलनों मेंसे एक, Convention on Biological Diversity को लागू करने में अग्रणी है। राष्ट्रीयस्तर पर कन्वेंशन को लागू करने के लिए हमने वर्ष2018 में National Biodiversity Action Plan (NBAP) और वर्ष 2014 में 12 National Biodiversity Targets (NBT) विकसित किए हैं। सभी जैविक दवाबों के बावजूद, जैव विविधतासंरक्षण के क्षेत्र में भारत सराहनीय काम कर रहाहै और भारत दुनिया के उन कुछ देशों में से एकहै, जहां वानाच्छादन में लगातार वृद्धि हो रही है।आज हमारे भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 21.54 फीसदी वन क्षेत्र है।

Speaking on the occasion, the Union Minister said while globally, biodiversity is facing increasing pressure on account of habitat fragmentation and destruction, invasive alien species, pollution, climate change and overuse of resources, India is one of the few countries where forest cover is on the rise, with its forests teeming with wildlife.

संरक्षण, स्थायी उपयोग (SustainableUtilization), उपयोग और साझाकरण के क्षेत्रोंमें मैं एनबीए और सभी 29 एसबीबी के काम कीसराहना करता हूं। मुझे यह जानकर प्रसन्नता हैकि इसकी स्थापना के बाद से एनबीए ने सभी 29 राज्यों में SBB के निर्माण का समर्थन किया हैऔर 26 राज्यों में 74,063 जैव विविधता प्रबंधनसमितियों (BMC) की स्थापना की सुविधा प्रदानकी है। अब तक 17 राज्यों में 6096 People's Biodiversity को Registers किया है।

Praising the NBA and 29 SBB for their works in the field of conservation and sustainable utilization. Further he said that as a responsible nation, India has never reneged on its international commitments and has earlier submitted on time five national reports to the CBD. The NR6 provides an update of progress in achievement of 12 National Biodiversity Targets (NBT) developed under the convention process in line with the 20 global Aichi biodiversity targets.

इस मौके पर पर्यावरण, वन और जलवायुपरिवर्तन मंत्रालय के सचिव सी के मिश्रा, अपरसचिव डॉ एक के मेहता, एनबीए की अध्यक्ष डॉमीना कुमारी और राज्य जैव विविधता बोर्ड केविशिष्ट प्रतिभागी और MOEFCC के अन्यअधिकारी भी मौजूद रहे।

On this occasion, C K Mishra, Secretariat Ministry of Environment, Forest and climate change and other officials were also present.