नई दिल्ली, 10-06-2020: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज भगवान महावीर विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित ''शिक्षा क्षेत्र में COVID19 का प्रभाव और भविष्य' पर Webinar को संबोधित किया। डॉ हर्ष वर्धन ने COVID19 पर चर्चा करते हुए बताया कि हम किस प्रकार स्थिति को संभाल रहे हैं, किस तरह इस महामारी ने दुनिया भर में शैक्षिक प्रणालियों को प्रभावित किया है। दुनिया भर में अधिकांश सरकारों ने COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए शिक्षण संस्थानों को अस्थायी रूप से बंद कर दिया है। शिक्षण संस्थान बंद होने के कारण वर्तमान में लगभग 1.725 बिलियन शिक्षार्थी प्रभावित हैं।



उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि 31 दिसंबर को चीन ने दुनिया को बताया कि उसके यहां न्यूमोनिया की तरह के लक्षण के एक वायरस का पता चला है। 7 जनवरी 2020 को चीन ने कोरोना वायरस के बारे में बताया तब हमने 24 घंटे से भी कम समय में कार्रवाई की। कोरोना प्रभावित अन्य देशों के मुकाबले भारत में मृत्यु दर कम है।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने कहा कि 135 करोड़ की जनसंख्या वाले देश में कोरोना के 2.5 से 3 लाख केस हैं, हमारा डबलिंग रेट 3 दिन से बढ़कर 16 दिन हो गया है। कोरोना वायरस कब तक रहेगा, ये कहना मुश्किल है लेकिन 3 फीसदी लोग इस बीमारी के कारण दम तोड़ रहे हैं। कोरोना से बचने की दवाई फिलहाल मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग ही है।

इस फाउंडेशन के विकास की कहानी 14 वर्षों में एक कॉलेज से 20 कॉलेजों के निर्माण व तकनीकी शिक्षा, चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास आधारित विश्वविद्यालय तक बनने तक की है। परिवर्तन अपरिहार्य हैं लेकिन समाज को बेहतर बनाने के लिए अतिरिक्त सुविधाओं के साथ बदलाव हमेशा बेहतर होता है।