15 सितंबर 2019: भारतीय जनता पार्टी के देशव्यापी जनसम्पर्क अभियान के तहत कर्नाटक पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज सुबह कोलार में समाज के प्रमुख लोगों से मुलाकात की । सबसे पहले उन्होंने पी एम आर हरीश व अन्य कृषकों से भेंट की। कृषकों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि यहां किसान किस तरह नई तकनीक का प्रयोग कर अपनी खेती से ज्यादा लाभ ले रहे हैं । इसके बाद उनकी मुलाकात कोलार के ही एक अन्य प्रगतिशील कृषक सी एम रमैया से हुई । उन्होंने कहा कि सी एम रमैया जी के घर पर अपार स्नेह व अपनत्व मिला । इस दौरान टमाटर के निर्यातक कृषकों ने केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर में किए गए ताजा बदलावों पर खुशी जताते हुए पाकिस्तान को टमाटर निर्यात न करने का निर्णय लिया है।



अनुच्छेद 370 को लेकर भारतीय जनता पार्टी के देशव्यापी संपर्क अभियान के तहत डॉ हर्ष वर्धन ने इसके बाद कोलार में हॉर्टिकल्चर विशेषज्ञ और किसान प्रो. नन्जुंदी गौड़ा से मुलाकात की । गरीबों की निरंतर सेवा में लगे प्रो.गौड़ा से जम्मू कश्मीर को लेकर रचनात्मक विचारों का आदान-प्रदान उपयोगी रहा। इसके बाद उन्होंने विख्यात चिकित्सक व समाजसेवी डॉ शंकर और दलित नेता व पत्रकार सी एम मुनियप्पा से मुलाकात की । उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के जनसंपर्क अभियान के तहत स्थानीय प्रमुख लोगों से मिलना और उनके विचार जानना एक विशिष्ट अनुभव रहा। आज दिन भर और भी खास लोगों से मिलने को उत्सुक हूं।

इस बीच भारतीय जनता पार्टी अनुच्छेद 370 को लेकर देशव्यापी जनसंपर्क अभियान के तहत One Nation One Constitution विषय पर हुई सेमिनार में हिस्सा लिया । इस दौरान अपने संबोधन में प्रबुद्ध जनों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी व पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जी की तरफ से मैं आप सभी का अभिनंदन करता हूं। आप जिस तरह इतनी देर यहां बैठकर कार्यक्रम से जुड़े रहे वो भारतीय जनता पार्टी के लिए आपका प्यार दिखाता है। उन्होंने कहा कि पिछले 2 दिनों से में मणिपुर की राजधानी इंफाल में था। मैंने वहां वरिष्ठ जनों से मुलाकात कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार और उसके द्वारा पिछले 100 दिनों में उठाए गए महत्वपूर्ण कदमों पर उनके विचार जानने का प्रयास किया। आप सभी को पता है कि लोकसभा में हमें पूर्ण बहुमत है। जबकि राज्यसभा में हम बहुमत में नहीं हैं लेकिन जब अनुच्छेद 370 को हटाने का बिल सदन में रखा गया तो सभी दलों के लगभग दो तिहाई सांसदों ने इस बिल समर्थन किया। सबने राजनीति से ऊपर उठकर राष्ट्रहित के बारे में सोचा । उन्होंने बस यही बात याद रखी जिसे राष्ट्रीय धर्म कहा जाता है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि भारतीय संसद के लिए यह एक ऐतिहासिक क्षण था। 70 सालों से एक सपना जिसे लगभग सभी भारतीय ने देखा था, वह हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के साहसिक और बुद्धिमानी भरे फैसले, गृह मंत्री अमित शाह के कुशल नेतृत्व से ही संभव हो पाया। हम सभी मानते है और हमारा विश्वास है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। इस विश्वास के बावजूद हमें ऐसा महसूस नहीं होता था कि कश्मीर जिस प्रकार से हमारा होना चाहिए वैसा है । कहीं ना कहीं कुछ गलत था जिस कारण लगता था कि हम 370 से छुटकारा नही पा सकते। उन्होंने कहा कि आज सुबह से मैं कोलार जिले में हूं और इस दौरान मुझे प्रबुद्ध जनों से मुलाकात करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। इस दौरान उनसे बात करते हुए सभी लोगों ने जम्मू कश्मीर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह जी द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की।