BASIC Meeting : विकसित देशों ने नहीं निभाया वायदा


ग्लोबल वार्मिग और जलवायु परिवर्तन को लेकर पौलेंड में होने वाली COP 24 बैठक के पहले नई दिल्ली में BASIC Ministerial मीटिंग का आयोजन किया गया है जिसमें भारत, चीन, साउथ अफ्रीका और ब्राजील सदस्य देशों के प्रतिनिधियों ने आपसी हितों व अपनी स्थिति को मजूबत करने के मुद्दों पर विचार विमर्श किया।



नई दिल्ली ( 20 नवंबर 2018) : ग्लोबल वार्मिग और जलवायु परिवर्तन को लेकर पौलेंड में होने वाली COP 24 बैठक के पहले नई दिल्ली में BASIC Ministerial मीटिंग का आयोजन किया गया है जिसमें भारत, चीन, साउथ अफ्रीका और ब्राजील सदस्य देशों के प्रतिनिधियों ने आपसी हितों व अपनी स्थिति को मजूबत करने के मुद्दों पर विचार विमर्श किया।

बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए भारत के केंद्रीय पर्यवारण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि BASIC Ministerial मीटिंग में सदस्य देशों के बीच COP 24 में अपनी बातों को और मजबूती से रखने पर सहमति बनी है। सदस्य देशों ने कहा कि विकसित देशों ने फाइनेंस और तकनीक हस्तांरण जैसे मुद्दों को लेकर अपने वायदों को पूरा नहीं किया गया है। विकसित देशों ने प्रति वर्ष 100 USD बिलियन की सहायता देने का वायदा किया गया था जिसे पूरा नहीं किया गया है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन में विकासशील देशों की कम भागीदारी होने के बावजूद दुनिया को ग्लोबल वार्मिग से बचाने की दिशा में इन देशों ने महत्पूर्ण और महत्वाकांक्षी योजनाएं लागू की है। हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि Paris Agreement Work Programme समानता के सिद्धांतों पर आधारित हो। जलवायु परिवर्तन के लिए नियम बनाते वक्त सभी देशों को एक तराजू पर नहीं तौला जा सकता है।

उन्होंने कहा कि COP 24 में Nationally Determined Contributions की प्रगति से कोई परिणाम नहीं मिलेगा। इसके बदले हमलोगों को Mitigation, Adaptation, Finance, Technology Development और हस्तांतरण पर फोकस करने की जरूरत है। ग्लोबल वार्मिग से विकासशील देशों को प्राकृतिक आपदाओं से जूझना पड़ रहा है।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि विकसित देश 2020 के पहले की अवधि की अपनी जिम्मेदारियों से पीछे हट रहे हैं और जलवायु परिवर्तन के संबंध में कार्रवाई में देरी कर रहे हैं, जो United Nations Framework Convention on Climate Change (UNFCCC) के समझौते के अनुरूप नहीं है।

उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन को लेकर भारत अपनी भूमिका को लेकर प्रतिबद्ध है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत ने जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिग की दिशा में महत्पूर्ण कदम उठाए हैं।

BASIC Ministerial बैठक में ब्राजील के पर्यावरण मंत्री Mr.Edson Duarte, चीन के Climate Change Affair के विशेष प्रतिनिधि Xie Zhenhua और साउथ अफ्रीका के जलवायु परिवर्तन की डिप्टी डायरेक्टर Dr.Tsakani Ngomane ने हिस्सा लिया।