19 जुलाई, 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी व पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान पक्ष और विपक्ष द्वारा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से जुड़े कई सवालों के जवाब दिए। इस दौरान धौरहरा, उत्तर प्रदेश से बीजेपी सांसद रेखा अरूण वर्मा के टीकाकरण कार्यक्रम से जुड़े एक प्रश्न का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में2014 में मिशन इंद्रधनुष योजना शुरू की गई थी, जिसपर 2015 से काम शुरू हुआ । इससे टीकाकरण में एक प्रतिशत की वृद्धि दर बढ़कर सीधे 6 प्रतिशत पर पहुंच गई । उन्होंने कहा कि सरकार देश के हर कोने में बच्चों के टीकाकरण को लेकर गंभीर है और पिछले पांच वर्षों में इसमें काफी सुधार आया है। उन्होंने विश्वास जताया कि आने वाले समय में देश का हर एक बच्चा टीकाकरण के दायरे में आ जाएगा ।



इस दौरान एक सदस्य ने जनजातीय क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं का मुद्दा उठाया । इसके जवाब में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य राज्य का विषय है लेकिन इसके बावजूद केन्द्र सरकार नेशनल हेल्थ मिशन के तहत कई योजनाओं के जरिए राज्य के लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पताल पहले से ही आयुष्मान योजना के तहत काम कर रहे हैं और देश के 16 हजार अस्पतालों को अभी तक इसके तहत रजिस्टर्ड किया गया है। उन्होंने कहा कि Ayushman Bharat योजना पश्चिम बंगाल के अलावा तेलंगाना और दिल्ली में अभी तक लागू नहीं की गई है जबकि ओडिशा, पंजाब जैसे राज्य इस योजना को जल्द लागू कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि आयुष्मान योजना को राजनीतिक चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए ।

पश्चिम बंगाल में एम्स जैसे बड़े अस्पताल खोले जाने संबंधी एक सवाल के जवाब में डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि केन्द्र में हमारी सरकार आने के बाद कल्याणी में 1754 करोड़ रुपए की लागत से एम्स बन रहा है। प्रश्नकाल के दौरान माननीय सदस्य के द्वारा स्कूलों में लड़कियों के लिए सैनिटेशन से जुड़े एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि इस मामले को लेकर सरकार काफी गंभीर है और केन्द्र सरकार के 4 मंत्रालय इस दिशा में मिलकर काम कर रहे हैं।