30 सितंबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज आयुष्मान भारत (PMJAY) की प्रथम वर्षगांठ के अवसर पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा आयोजित 2 दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला ‘आरोग्य मंथन’ का उद्घाटन किया। पिछले साल सितंबर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा रांची में इसकी शुरूआत की गई थी। आरोग्य मंथन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अगर आज हम आयुष्मान भारत की सफलता पर गर्व महसूस कर रहे हैं, तो इसका श्रेय हमारे जनप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को जाता है, जिनके दूरदर्शी सोच के कारण आज हम स्वस्थ भारत की तरफ कदम बढ़ा पाए हैं । उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों और प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के माध्यम से गरीबों और जरूरतमंदों को स्वास्थ्य लाभ देने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सस्ती, गुणवत्ता और सुलभ स्वास्थ्य सेवाओं की सोच को साकार करने का काम कर रहा है।



कार्यक्रम में डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आयुष्मान भारत योजना के वास्तुकार हैं, जो दुनिया में सबसे बड़ी सार्वजनिक स्वास्थ्य योजना है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत ने दिखाया है कि बड़े पैमाने पर स्वास्थ्य योजना का न केवल सपना देखा जा सकता है बल्कि इसे सफलतापूर्वक लागू भी किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गतिशील नेतृत्व में भारत ने दुनिया में स्वास्थ्य क्षेत्र में बड़ी छलांग लगाई है। प्रधानमंत्री के अनुकरणीय कार्य के लिए उन्हें सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन, आदि सरकारों के साथ हाल ही में गेट्स फाउंडेशन जैसे संगठनों द्वारा सम्मानित किया गया है। पीएम आज दुनिया की आकांक्षाओं के प्रतीक बन गए हैं ।

उन्होंने यह भी कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत देश में 12 करोड़ से अधिक शौचालयों का निर्माण किया गया है। पहले देश में स्वच्छता कवरेज 30 प्रतिशत भी नहीं था, जबकि आज यह 95 प्रतिशत से अधिक हो गया है। यह हमारे प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता के कारण है कि देश के 5 लाख 90 हजार से अधिक गांवों को खुले में शौच मुक्त घोषित किया गया है। डॉ हर्षवर्धन ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत लोगों को 8 करोड़ से अधिक कनेक्शन दिए गए हैं और गरीब लोगों के वित्तीय समावेशन के लिए जन धन योजना के तहत 37 करोड़ से अधिक खाते खोले गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अब सरकारी योजना का लाभ सीधे उन लोगों के बैंक खातों तक पहुंचता है जो इसके सबसे अधिक हकदार हैं।

आयुष्मान भारत की एक मुख्य विशेषता पर प्रकाश डालते हुए डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि इसे किसी भी तरह के धोखाधड़ी के प्रति जीरो टॉलरेंस के दृष्टिकोण पर संचालित किया जा रहा है। हमारे पास भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी के आरोपों में 111 अस्पतालों को डी एम्प्लान किया गया है। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना के साथ किसी तरह की धोखाधड़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। ऐसा करनेवाले अस्पतालों के नाम 'Name & Shame' की श्रेणी में डालकर पब्लिक करने का काम शुरू कर दिया गया है।

डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि यह योजना 50 करोड़ से अधिक लोगों के लिए है जिन्हें सरकारी या निजी क्षेत्र द्वारा गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग आयुष्मान भारत योजना से सरकारी अस्पतालों को हटाए जाने की मांग कर रहे हैं जो बिल्कुल बेतुका है और इसे खारिज करने की जरूरत है। समारोह में इस पर उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए कई तर्क दिए । डॉ हर्षवर्धन ने एनएचए की वार्षिक रिपोर्ट औरे बेस्ट प्रैक्टिसेज एंड इनोवेशन पर एक दस्तावेज़ जारी किया। उन्होंने एनएचए और कर्मचारी राज्य बीमा निगम ईएसआईसी अस्पतालों के बीच समझौता ज्ञापन के आदान-प्रदान की भी अध्यक्षता की।

आयुष मंथन' में उन्होंने कहा कि विश्व ने भले ही TB से मुक्ति के लिए 2030 का लक्ष्य रखा हो, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2025 तक भारत को TB मुक्त करने का लक्ष्य तय किया है और हम इस दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं। पहले किसी गरीब परिवार का कोई सदस्य बीमार पड़ता था तो उनके पास इलाज के लिए संसाधन नहीं थे और वो इलाज के लिए अपनी संपत्ति तक बेचने को मजबूर हो जाता था, लेकिन PMJAY ने गरीबों की इस चिंताओं को खत्म कर उन्हें उचित स्वास्थ्य व्यवस्था दी है।

कार्यक्रम में सब टीवी द्वारा अपने शो के माध्यम से आयुष्मान भारत के बारे में लोगों का जागरूक करने के लिए ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ के निर्माता श्री असित कुमार मोदी की भी जमकर तारीफ की और उन्हें सम्मानित किया गया।