16 अक्टूबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन ने आज दिल्ली में ASIA HEALTH 2019 का उद्घाटन किया। कॉन्क्लेव में हेल्थ इको सिस्टम पर कई स्टेक होल्डर्स ने मिलकर स्वास्थ्य के संबंध में विस्तृत चर्चा की । ASIA HEALTH 2019 के उद्घाटन सत्र के दौरान, डॉ हर्ष वर्धन ने 'हेल्थ टेक हब के रूप में भारत', 'आयुष्मान 2.0-इंडियन हेल्थ इंश्योरेंस विजन 2030' पर भी रिपोर्ट जारी की और "टीबी मुक्त कार्यक्षेत्र" के लिए एक अभियान चलाया।



कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि 90% स्वास्थ्य की रोकथाम, समाज में सकारात्मक दृष्टिकोण के विकास से ही हो सकती है। हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि जब कोई मरीज हमारे पास आता है, तो हम उसे उचित चिकित्सा शिक्षा प्रदान करें। उन्होंने कहा कि हम बहुत सौभाग्यशाली हैं कि भारत जैसे बड़े देश में आयुष्मान भारत जैसा कार्यक्रम चल रहा है जिससे पिछले 1 साल में 50 लाख लोगों का इलाज किया गया है। साथ ही देश की स्वास्थ्य जरूरतों को पूरा करने और स्वास्थ्य सेवाओं को और बेहतर बनाने के लिए देश में 2022 तक आयुष्मान भारत के तहत 1.50 लाख हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर खोले जाएंगे। अभी देश भर में लगभग 22,000 एचडब्ल्यूसी काम कर रहे हैं।

डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश की समस्याओं को गहराई से समझते हैं । उन्होंने ऐसी कई समस्याओं की पहचान कर उसके निदान की दिशा में दूरदर्शी कदम उठाए हैं, जिससे देश पिछले 70 सालों से ग्रसित था। उन्होंने कहा कि जब 2014 में हम सत्ता में आए तो लोगों के देश की अर्थयवस्था पर अच्छे विचार नहीं थे लेकिन हमने उसको मजबूत बनाने का काम किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने कई योजनाएं बनाई हैं जो देश के लोगों के स्तर को उठाने का काम कर रही है। सरकार द्वारा चलाई गई हर योजना के लाभार्थियों की संख्या करोड़ों में है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2022 तक देश को न्यू इंडिया में परिवर्तित करना चाहते हैं जिसमें सभी लोगों को वो हर सुविधा मिले जो उसको एक खुशहाल जीवन दे सके।