13 नवंबर 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ हर्ष वर्धन आज दिल्ली के AIIMS में आयोजित "अंगदाता सम्मान समारोह" में शामिल हुए। अंगदान देनेवालों की याद और उनके परिवारवालों के सम्मान में आयोजित यह कार्यक्रम वाकई अनूठा था। Organ Retrieval Banking Organization, AIIMS के इस समारोह में अपनों का अंगदान करनेवाले 51 परिवारों को सम्मानित करते हुए उन्होंने कहा कि अपने हृदय की गहराइयों से इन सभी को नमन् करता हूं। साथ ही उन्हें भी श्रद्धांजलि जो जाते-जाते किसी को जीवन दे गए। कार्यक्रम में डॉ हर्ष वर्धन के साथ खेलमंत्री किरण रिजिजू जी, राज्यसभा सदस्य व ओलिंपिक पदक विजेता बॉक्सर मैरी कॉम व बॉलीवुड गायक मोहित चौहान उपस्थित रहे।



इस अवसर पर डॉ हर्ष वर्धन ने कहा कि राज्यसभा सदस्य व ओलिंपिक पदक विजेता बॉक्सर मैरी कॉम जी की उपस्थिति ने सबका ध्यान अपनी तरफ खींचा। मुझे विश्वास है कि उनकी यह उपस्थिति अंगदान के प्रति लोगों को जागरूक करेगी। समारोह में गायक श्री मोहित चौहान ने अपनी पत्नी के पदचिन्हों पर चलते हुए आज अपने अंगदान की घोषणा की। इससे पहले 2001 में उनकी पत्नी प्रार्थना गहिलोट जी भी अपने अंगदान करने की घोषणा कर चुकीं हैं। वाकई, चौहान दंपत्ति हम सबके लिए प्रेरणा हैं।

अंगदाता सम्मान समारोह" में केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि अंगदान करने वाले परिवार हम सबके लिए प्रेरणा के स्रोत हैं, क्योंकि उन्होंने जो कुछ भी किया, वह निस्वार्थ भाव से किया है। उनके कृत्य ने लाखों लोगों को अंगदान के लिए प्रेरित किया है। जो इस दुनिया से जाते-जाते अपना शरीर या अंग दान कर गए वो किसी न किसी रूप में आज भी जिंदा हैं। उनकी पवित्र स्मृति को मैं प्रणाम करता हूँ। उन्होंने कहा कि 2014 में एक बच्ची की एक्सीडेंट में मौत के बाद उसके परिवार ने उसके सभी अंग दान कर दिए थे। उस समय स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए मैंने उसकी याद में 'सुरभि' मूवमेंट शुरू किया था। आज उस लड़की के माता-पिता कहते हैं मेरी बेटी तो जिंदा है। उन्होंने कहा कि बहुत पवित्र मकसद से ये 'अंगदाता सम्मान समारोह' कार्यक्रम हुआ है। मैं किसी शब्द या वाक्य से आपके योगदान को बयां नहीं कर सकता। इस देश में सेवा भाव होने के बाद भी कुछ लोग ब्लड देने से मना कर देते हैं लेकिन पूरा का पूरा अंग दे देना, शरीर दे देना, इन सब चीज़ों के लिए बहुत बड़ी भावना और जज्बा चाहिए।

अंग दान को एक दिव्य और ईश्वरीय कार्य करार देते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्ष वर्धन सभी से अंग दान के लिए आग्रह किया। उन्होंने कहा कि अंग दाताओं के परिवार बहादुर होते हैं जो एक समय में ऐसे फैसले लेते हैं जो उनके लिए और साथ ही उनके निकट और प्रियजनों के लिए भावनात्मक रूप से बहुत दर्दनाक है। उन्होंने अंगदान करने वाले परिवारों की धैर्य और साहस की सराहना करते हुए कहा कि आप लोगों ने अपने निस्वार्थ कृत्यों के माध्यम से, वह किया है जो कई सरकारें अकेले नहीं कर सकती हैं। ऐसे लोग जिन्होंने अपने परिवार के सदस्यों के अंग दान किए हैं, वे ऐसे हैं जिन्होंने समाज के लिए एक लाभदायक तरीके से योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि इन सभी लोगों ने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को पूरा किया है, और लाखों लोगों को अंगदान के लिए प्रेरित किया है। एक दाता 7-8 रोगियों के जीवन को बचा सकता है और 40-50 रोगियों के जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा सकता है। उन्होंने कहा कि हमें मृत्यु के बाद अंगों का दान करने के लिए व्यक्तियों, परिवारों को प्रेरित करने की आवश्यकता है। अंगदान के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाएं।